Latest News

बच्चों को शिवाजी बनाना है तो माताओं को जीजाबाई बनना होगा

मातृ सम्मेलन व बाल मेले में बच्चों ने अपने हुनर किये प्रदर्शित

जालौन (उरई), अजय मिश्रा । जालौन पब्लिक एकेडमी जालौन में शिक्षा के साथ संस्कार कार्यक्रम के तहत आज मातृ सम्मेलन व बाल मेला का भव्य आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों ने मां सरस्वती के चित्र पर पुष्पार्चन एवं  दीप प्रज्वलन कर किया। तत्पश्चात छात्राओं के द्वारा माँ सरस्वती की वंदना प्रस्तुत की गई। इसी क्रम में विद्यालय के प्रधानाचार्य राजकुमार मिझौना ने अतिथियों का परिचय कराया एवं विद्यालय की शिक्षिका आरती गुप्ता व अजरा परवीन के द्वारा सयुक्त रूप से अतिथियों का माल्यार्पण किया गया।बच्चों ने मनोहारी रंगा रंग कार्यक्रम प्रस्तुत किये। मनमोहक कार्यक्रमो ने सभी दर्शकों का मनमोह लिया। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि रवींद्र सलूजा ने कहा कि मा ही बालक की प्रथम गुरु  होती है अगर बालक को शिवाजी बनाना है
मातृ सम्मेलन में पूजा अर्चनी करती मुख्य अतिथि।
तो मां को जीजाबाई बनना पड़ेगा। मां की निष्क्रियता से सुल्ताना डाकू बना। अतः मां बच्चों को निरंतर सुंदर संरक्षण प्रदान करें। विशिष्ट अतिथि डॉक्टर रंजना दुबे ने कहा कि जब बेटी बड़ी होती है उसे मां के सरंक्षण एवम  कुशल गाइडलाइन की जरूरत पड़ती है। अतः मां एक मित्र की तरह व्यवहार करते हुए आने वाले समय के बारे में जागरूक करें तो वह भी एक कुशल मां बन सकती है। ऊषा गुप्ता ने कहा आज के दूषित परिवेश में बेटी एवं बेटों को मां के सरंक्षण की महती आवश्यकता होती है। कार्यक्रम की अध्यक्षा रुचि मित्तल ने सभी बच्चों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए शुभ आशीष प्रदान किया।इसी क्रम में नम्रता श्रीवास्तव व पूनम श्रीवास्तव ने भी बच्चों का उत्साह वर्धन किया। अंत में विद्यालय के संचालक शैलेन्द्र श्रीवास्तव ने आए हुए अतिथियों एवं अभिभावकों का आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन अखिल सर ने किया। बाल मेले में बच्चों ने उत्साह के साथ पानी के बतासे, मसाले दार चने की चाट, कोल्ड ड्रिंक्स, मीठे पान, ढोकला टॉफी बिस्कुट वैज विरयानी आदि के स्टॉल लगाए गए। महेंद्र भदौरिया जितेन्द्र सर, अहसान सर सुधांशु सर टीएन सर, गोल्डी मिस, आकांक्षा मिस, सुनीता मैडम आदि ने कार्यक्रम को सफल बनाने में सराहनीय सहयोग किया।

No comments