Latest News

एंबुलेंस चालकों ने तरेरी आखें, समझौते पर किया जाए अमल

शुक्रवार की शाम तक मांगें पूरी नहीं हुईं तो एंबुलेंसों का होगा चक्का जाम 
एंबुलेंस चालकों ने गुरुवार को दिया सांकेतिक धरना, जताया आक्रोश 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी अपना काम तो ठीक से करते नहीं, ऊपर से दिन-रात काम करने वाले कर्मचारियों का भी ध्यान नहीं देते हैं। 108 और 102 समेत एडवांडस लाइफ सपोर्ट (एएलएस) एंबुलेंस संचालकों ने वर्ष 2019 के सितंबर महीने में तीन दिनों का चक्का जाम हड़ताल की थी, इस दौरान श्रम आयुक्त की मौजूदगी में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने एक समझौता करते हुए वेतन बढ़ाए जाने और ठेकेदारी की प्रथा को खत्म करने समेत अन्य समस्याओं का समाधान करने का आश्वासन दिया था। अलबत्ता पांच महीने का समय गुजर जाने के बावजूद इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया गया, जिससे एंबुलेंस चालक खफा हो गए और गुरुवार को अस्पताल कैंपस में सांकेतिक धरना देते हुए नारेबाजी की है। चेतावनी दी है कि शुक्रवार शाम तक उनकी मांगें पूरी नहीं हुईं तो वह एंबुलेसों का एक बार फिर से चक्का जाम कर देंगे। 
वेतन में इजाफा करने के साथ ही ठेका प्रथा को समाप्त किए जाने सहित अन्य समस्याओं को लेकर बीते वर्ष 2019 के सितंबर माह में तीन दिन का चक्का जाम किया था। इस दौरान जिले में संचालित सभी 108 व 102 समेत एएलएस एंबुलेंसों को जेएन डिग्री कालेज ग्राउंड में खड़ा कर दिया गया था। एक एंबुलेंस चालक ने एंबुलेंस में बैठे रहकर ही भूख हड़ताल तक शुरू कर दी थी। तीन दिनों तक एंबुलेंसों का चक्का न घूमने के कारण जिले
जिला अस्पताल परिसर में धरने पर बैठे एंबुलेंस चालक 
की स्वास्थ्य व्यवस्था पर बुरा असर पड़ा। मरीजों को अस्पताल लाने और उन्हें घर तक भेजने की व्यवस्था भी चरमरा गई थी। मामले को बढ़ता देखकर श्रम आयुक्त की मध्यस्थता के बीच स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने एंबुलेंस चालकों को वेतन में इजाफा करने और ठेका प्रथा समाप्त करने सहित अन्य मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया था। लेकिन इस समझौते के पांच महीने गुजर जाने के बावजूद अभी तक समझौते पर कोई अमल नहीं किया गया। जीवनदायिनी स्वास्थ्य विभाग 108 व 102 एंबुलेंस कर्मचारी संघ उत्तर प्रदेश के जिम्मेदारों को अवगत कराते हुए गुरुवार को एंबुलेंस चालकों ने जिला अस्पताल कैंपस में सांकेतिक धरना दिया। एंबुलेंस चालकों ने 36 घंटे का अल्टीमेटम स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को दिया है। चेतावनी दी है कि अगर शुक्रवार की शाम तक उनकी मांगों को पूरा करते हुए समझौते पर अमल नहीं किया गया तो वह एंबुलेंसों का चक्का जाम कर देंगे। एंबुलेंस चालकों के इस रुख से स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी सकते में नजर आ रहे हैं।

No comments