Latest News

किशोरियों के लिए विशेष जागरुकता शिविर आयोजित

एनीमिया मुक्त भारत अभियान  
फिल्मी अंदाज में दिए एनीमिया से बचने के टिप्स  

बांदा, कृपाशंकर दुबे । एनीमिया यानि खून की कमी को लेकर प्रदेश में चलाए जा रहे ‘एनीमिया मुक्त भारत’ अभियान के तहत बुधवार को  राजकीय बालिका इंटर कालेज, तिंदवारी में जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।कार्यक्रम में जिलाधिकारी हीरालाल के सहयोग से सृजन शक्ति वेलफेयर सोसाइटी की महासचिव सीमा मोदी और उनके साथियों द्वारा एनीमिया के कारणों और उनसे बचाव के बारे में छात्राओं को जागरुक किया गया।  
छात्रा का उपचार करते चिकित्सक
पिछले 13 वर्षों से थिएटर से जुड़े होने के कारण एनीमिया के बारे में समझाने का उनका अंदाज अलग ही रहा। फिल्मी अंदाज में उन्होंने बड़ी सहजता से छात्राओं को बताया कि एनीमिया किसी भी आयु वर्ग के लोगों को हो सकता है। इसके पीछे कई कारण भी हो सकते हैं, जैसे खान-पान का तरीका, साफ-सफाई, दिनचर्या और जीवनशैली। इसके अलावा महिलाओं में हर माह माहवारी के दौरान अत्यधिक रक्तस्राव भी एनीमिया का एक महत्वपूर्ण कारण हो सकता है, जिसे नजरंदाज नहीं करना चाहिए। महिलाओं के पोषण के प्रति घर के पुरुषों को भी जागरुक होना पड़ेगा, तभी हर किशोरी, हर महिला और हर घर एनीमिया से मुक्त होगा। कार्यक्रम में छात्राओं ने ‘स्वस्थ रहो, एनीमिया मुक्त-रहो’ के नारे लगाकर एनीमिया से लड़ने की शपथ ली। कार्यक्रम में तिंदवारी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. नीरज पटेल, आरबीएसके मैनेजर वीरेंद्र सिंह, डा. सुमन द्विवेदी, नेत्र परीक्षण अधिकारी शोभित गुप्ता, प्रधानाध्यापिका कीर्ति कसौंधन, सृजन शक्ति वेलफेयर सोसाइटी से नवीन मिश्रा व उनके साथी आदि शामिल रहे।

कैंप में खून की जांच के साथ बांटे लाई-चना के पैकेट 

बांदा। जागरुकता शिविर में लगभग 200 किशोरियों के हीमोग्लोबिन की जांच की गई, जिनमें चार गंभीर एनीमिया से ग्रसित पाई गई जिनका हीमोग्लोबिन चार  ग्राम से कम था। इन सभी को उपचार के लिए प्राथमिक
जागरूकता कार्यक्रम में मौजूद छात्राएं
स्वास्थ्य केंद्र तिंदवारी रेफर किया गया है। कार्यक्रम में एनीमिया से बचने के लिए किशोरियों को लाई-चना के पैकेट बांटे गए और सेनेटरी नैपकिन का निरूशुल्क वितरण भी किया गया। इसी तरह का जागरुकता कार्यक्रम पूर्व माध्यमिक विद्यालय तनगामऊ, जसपुरा ब्लाक में किया गया, जहां नन्हे बच्चों ने नाटक के माध्यम से एनीमिया के बारे में लोगों को जागरुक किया। 

No comments