Latest News

सेना भर्ती के अंतिम दिन दौड़ में केवल 52 अभ्यर्थी रहे सफल

सभी जनपदो के छूटे हुए प्रतिभागियों को दिया गया अंतिम मौका 
13 जनपदों की भर्ती प्रक्रिया समाप्त होने से आयोजको ने ली राहत की सांस

फतेहपुर, शमशाद खान । सेना भर्ती रैली के अंतिम दिन सभी जनपदों के किसी कारण वश छूटे हुए अभ्यर्थियों को मौका दिया गया। भर्ती की अंतिम उम्मीद लेकर युवाओ ने एक बार फिर पूरे जोश व जज्बे के साथ प्रतिभाग किया। सेना में भर्ती होकर देश के लिये कर गुजरने का जज्बा लिये हुए युवाओ की टोली एक बार मैदान में
अभ्यर्थियों की नापजोक करते सेना के अधिकारी।
उतरी। कुल पंजीकृत 3273 अभ्यर्थियों में से मात्र 417 प्रतिभागियों ने ही प्रतिभाग किया। जिसमें जीडी ग्रेड में 305, टेक्निकल में 37, क्लर्क में 22 समेत अन्य वर्गों के अभ्यर्थी शामिल रहे। दौड़ में 52 उम्मीदवार ही सफल हो सके। सेना भर्ती की जिम्मेदारी देख रहे कर्नल आशुतोष मेहता, कर्नल विनय बाजपई के अनुसार दौड़ में सफल होने वाले अभ्यर्थियों के कागजातों की जांच की जाती है। जिस जनपद की भर्ती होती है आवेदक का उसी जनपद का निवासी होना चाहिये और उसका निवास प्रमाण पत्र भी उसी जनपद का होना आवश्यक है। दस्तावेजों की जांच के बाद फिटनेस व नाप की जाती है फिर उनका मेडिकल कराया जाता है। सभी तरह की जांच संतोषजनक पाये जाने के बाद आवेदकों को लिखित परीक्षा से गुजारा जायगा। जिसे सफलतापूर्वक पास करने के बाद आवेदक को सैनिक के रूप में शामिल कर सेना की शाखाओं में प्रशिक्षण के लिये भेजा जायेगा। सेना भर्ती में शामिल होने के लिये 12 वीं बटालियन पीएसी में चल रही सेना भर्ती में युवाओ की खासी भीड़ उमड़ रही थी। भर्ती स्थल पर युवाओं की भीड़ उनके देश सेवा के जज्बे को दूर से ही दर्शा रही थी। 2 फरवरी से चल रही सेना भर्ती रविवार को अंतिम दिन समाप्त हो गयी। अंतिम दिन सभी जनपदों के छूटे हुए अभ्यर्थियों को शामिल किया गया। अंतिम दिन मात्र 52 युवा ही रेस में सफल हो सके। सेना भर्ती के नाम पर गड़बड़ी फैलाने, ठगी करने एव रैकेट चलाने वालों पर सेना की इंटेलिजेंस के साथ ही स्थानीय खूफिया इकाई भी टोह लेती रही। सेना भर्ती के अंतिम दिन सभी 13 जनपदों के युवाओं के शामिल होने के कारण रेलवे स्टेशनों एव बस अड्डो में खासी भीड़ देखने को मिली। रेलवे ने कई अन्य नान स्टॉप ट्रेनों को स्टॉपेज देकर लोगो को रहत दिलाई। जबकि रोडवेज द्वारा सभी रुट पर अतिरिक्त बसों की भी व्यबस्था की गयी थी।

No comments