Latest News

होलाष्टक 3 मार्च से नहीं होगें विवाह आदि मांगलिक कार्य

फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से पूर्णिमा तक होलाष्टक मनाया जाता है। इस वर्ष होलाष्टक 3 मार्च से प्रारम्भ होकर 9 मार्च तक रहेगा। 9 मार्च को होलिका दहन है और  10 मार्च को होली खेली जायेगी। कई स्थानों पर होलाष्टक प्रारम्भ
होने पर पेड़ की डाल काटकर रंग बिरंगें कपड़े बांधकर इस डाल को जमीन में गाड़ देते है। इस दिन आम की मंजरी तथा चंदन को मिलाकर खाने का भी महत्व है। होलाष्टक के इन दिनों में विवाह आदि शुभ मंगल कार्य वर्जित माने जाते है ज्योतिष अनुसार फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से लेकर पूर्णिमा तक ग्रहों की दशा का स्वरूप उग्र होता है इसलिए कोई भी शुभ कार्य करने की मनाही रहती है।

-ज्योतिषाचार्य एस.एस. नागपाल, स्वास्तिक ज्योतिष केन्द्र, अलीगंज

No comments