Latest News

पं दीनदयाल की मनाई पुण्यतिथि

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरी । भाजपा कार्यालय में जन संघ के संस्थापक पं दीनदयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि व समर्पण दिवस मनाया गया। इस दौरान बतौर मुख्य अतिथि लोनिवि राज्य मंत्री चन्द्रिका प्रसाद उपाध्याय मौजूद
रहे। यह आयोजन नगर के सभी 12 सेक्टरों में हुआ। जिसमें कार्यकर्ताओं सहित आम जन मानस ने बढचढ कर भागीदारी की। वक्ताओं ने पं दीनदयाल के जीवन पर प्रकाश डालते हुए याद किया। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष चन्द्रप्रकाश खरे,े पूर्व सांसद भैरों प्रसाद मिश्रा, रंजना उपाध्याय, राजेश जायसवाल, रघुनाथ जायसवाल, नरेन्द्र गुप्त, बृजेन्द्र शुक्ला, जवाहरलाल सोनी, शैलेन्द्र सोनी, राजेश पाण्डेय, राजेन्द्र अग्रहरि, अनीता सिंह, अंजू वर्मा, रणवीर सिंह चैहान, सेक्टर प्रवासी जगदीश गौतम, श्याम गुप्ता, हीरो मिश्रा आदि ने श्रद्धासुमन अर्पित किए।

डीआरआई प्रकल्पो में हुए कार्यक्रम

चित्रकूट। पं. दीनदयाल उपाध्याय की 52वीं पुण्यतिथि दीनदयाल पार्क उद्यमिता विद्यापीठ में मनाई गई। सवेरे से ही संस्थान के विविध प्रकल्प गुरुकुल संकुल, उद्यमिता विद्यापीठ, सुरेन्द्रपॉल ग्रामोदय विद्यालय, आरोग्यधाम तथा खादी ग्रामोद्योग आयोग प्रशिक्षण केन्द्र के प्रशिक्षणार्थी, छात्र-छात्राओं, गुरुजनों सहित कार्यकर्ताओं ने चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किये। उनके जीवन से जुडे प्रेरणादायी प्रसंगों को दैनिक जीवन में आत्मसात करने का मंचन भी किया गया। सामूहिक कार्यक्रम के रूप में पं. दीनदयाल पार्क उद्यमिता परिसर में स्थापित लगभग 15 फिट ऊॅची प्रतिमा पर माल्यार्पण कर संस्थान के कार्यकर्ताओं ने पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन ने बताया कि राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख ने 1968 में पं. दीनदयाल के निर्वाण के उपरांत दीनदयाल स्मारक समिति बनाकर उनके काम की नींव दिल्ली में रखी थी। नानाजी ने स्मारक समिति से लेकर दीनदयाल शोध संस्थान की स्थापना तक के सफर में उनके एकात्म मानवदर्शन को व्यवहारिक रूप में धरातल में उतारने का कार्य सामूहिक पुरुषार्थ से कराकर दिखा दिया कि कोई अकेला व्यक्ति या संगठन विकास की प्रतिमा न दिखे बल्कि जनता स्वयं विकास की वाहक बनें। उनका दृष्टिकोण था कि इसमें केवल नाममात्र की भागीदारी प्रक्रिया नही होना चाहिये।

No comments