Latest News

एसडीएम से वार्ता के बाद मंडी बंद का फैसला लिया वापस

जालौन (उरई), अजय मिश्रा । चार सूत्रीय मांगों को लेकर आज से अनिश्चितकालीन मंडी बंदी का निर्णय का फैसला उप जिलाधिकारी के हस्तक्षेप के बाद व्यापारियों ने वापिस ले लिया है तथा मंगलवार को अपरान्ह व्यापारिक प्रतिष्ठान खुल गये।
गल्ला व्यापार कल्याण समिति व बागवान समाज सेवा समिति के तत्वावधान में गल्ला व्यापारियों व थोक सब्जी फल विक्रेताओं ने सोमवार को उप जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर मांग की थी कि मंडी परिसर की ध्वस्त सफाई व्यवस्था, अन्ना जानवरों का विचरण, दुकानों के टूटे पड़े फर्शों को ठीक कराने व मंडी परिसर में हैंडपंप लगवाने की मांग थी।ज्ञापन सौंपते ही व्यापारियों ने अगले दिन ही मांगें पूरी नहीं होने पर मंडी बंद की घोषणा कर दी।
व्यापारियों से वार्ता करते उपजिलाधिकारी।
घोषणा के मुताबिक मंगलवार को व्यापारियों ने मंडी बंद कर दी। उप जिलाधिकारी सुनील कुमार शुक्ला ने मंडी पहुंच कर सभागार में व्यापारियों के साथ बैठक की तथा व्यापारियों की मांगों को पूरा करने का हर संभव प्रयास करने का आश्वासन दिया। उपजिलाधिकारी के आश्वासन से आश्वस्त व्यापारियों ने मंडी बंद का फैसला वापस ले लिया तथा अपरान्ह लगभग 1 बजे अपने प्रतिष्ठान खोल लिए। इस मौके पर योगेश अग्रवाल, गोविंद तोमर, धर्मेंद्र दीवोलिया, संतोष गुप्ता, डाडू महाराज, भूरे मामा, राजू प्रधान कुसमरा, देवेन्द्र राठौर, नीरज अग्रवाल, चन्द्रशेखर, योगेन्द्र, सोरभ अग्रवाल, अंशुल सक्सेना समेत बड़ी संख्या में व्यापारी मजदूर उपस्थिति थे। 
गल्ला मंडी में हटाया गया अतिक्रमण
व्यापारियों के आक्रोश के कारण अतिक्रमण विरोधी अभियान मंगलवार को सुस्त रहा है तथा अतिक्रमणकारियों को स्वतः अतिक्रमण हटाने का अल्टीमेटम दिया। उपजिलाधिकारी सुनील कुमार शुक्ला, सचिव सर्वेश शुक्ला ने चैकी प्रभारी संजीव दीक्षित ने पुलिस फोर्स की मौजूदगी में आधा दर्जन दुकानों का सामान खड़े होकर हटवाया तथा दुकानदारों को चेतावनी दी कि वह स्वयं अतिक्रमण हटा ले अन्यथा मशीन लगाकर हटवा देगें।

No comments