Latest News

पंचतत्व में विलीन हुये पूर्व विधायक, कांग्रेसियों में शोक

जिला कांग्रेस कार्यालय में आयोजित की गई शोकसभा

बांदा, कृपाशंकर दुबे । अपने वसूलों के पक्के, मजबूत, फौलादी इरादों वाले कांग्रेस पार्टी के जिलाध्यक्ष पद पर 27 वर्ष तक पार्टी की मर्यादाओं एवं अनुशासन का पालन सुनिश्चित कराते हुये संगठन को चलाने वाले रामेश्वर
पार्टी कार्यालय में श्रद्धा सुमन अर्पित करते कांग्रेसी
भाई पूर्व विधायक का 3 जनवरी को निधन हो गया। जिससे कांग्रेस को अपूर्णनीय क्षति हुई है। शनिवार को उनकी अंत्यष्टि में सैकड़ों की तादाद में कांग्रेसी एवं अन्य पार्टियों के लोग उपस्थित रहे। जिला कांग्रेस कार्यालय में एक शोकसभा का आयोजन किया गया। जिसमें दिबंगत आत्मा की शान्ति के लिये ईश्वर से प्रार्थना की गई।
शोक सभा में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के प्रतिनिधि के रूप में आये हरदीपक निषाद ने कहा कि हमने अपने पितृतुल्य नेता को खो दिया है। जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेश दीक्षित ने कहा कि रामेश्वर भाई हमारे गुरू एवं मार्गदर्शक थे, उनके निधन से कांग्रेस को अपूर्णनीय क्षति हुई है। शहर अध्यक्ष पुष्पेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा कि वह सिद्धान्तवादी महान सख्सियत थे। शिवबली सिंह ने कहा कि 27 वर्ष तक सचिव, महासचिव, कार्यालय प्रभारी के रूप में उनके साथ काम करने का अवसर मिला, यही मेरी जीवन की पंूजी है, उनसे जो सीखने को मिला, इसी से मुझे जीवन्तता मिली है। नसीमुद्दीन सिद्दीकी पूर्व मंत्री ने फोन पर गहरा दुख प्रकट किया, इस दौरान वरिष्ठ नेता बालकुमार पटेल, दलजीत सिंह, प्रद्युम्न दुबे लालू, बी लाल, गजेन्द्र सिंह पटेल, शिवमंगल निषाद, मोहम्मद इदरीश, राजेश गुप्ता, किशनबाबू गुप्त, राजकुमार गर्ग, भगवानदीन गर्ग, अशरफ उल्ला, सरीफ वहीद, धीरेन्द्र पाण्डेय, काशीबाबू, राजनारायण पटेल, संजय ठाकुर, धीरेन्द्र प्रताप सिंह, सुनील चैरसिया, मुमताज अली सहित सैकडों की संख्या में कांग्रेसी उपस्थित रहे।

प्रसपा व विश्वकर्मा समाज ने जताया दुख
बांदा। कांग्रेस पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक रामेश्वर भाई के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुये प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष इमत्याज खान ने कहा कि रामेश्वर भाई बेदाग, स्वच्छ छबि के नेता थे। उन्होने पूरी जिन्दगी जनहित की राजनीति की एवं सद्भाव भाईचारा बढाने में अपना सक्रिय अमूल्य योगदान दिया। उनके निधन से बांदा ने एक जननेता खो दिया। वहीं विश्वकर्मा समाज के जिलाध्यक्ष रामबाबू विश्वकर्मा ने कहा कि विश्वकर्मा समाज के पितामह एवं नवयुवकों के प्रेरणा श्रोत भाई रामेश्वर प्रसाद विश्वकर्मा शनिवार को पंचतत्व में बिलीन हो गये। वह स्व. इन्दिरा गांधी व राजीव गांधी के करीबी माने जाते थे। उन्होने उनके निधन से अखिल भारतीय विश्वकर्मा समाज को बहुत बडी क्षति बताई है। जिसकी भरपाई होना असंभव है।

No comments