Latest News

जागरूकता कार्यक्रम में आयकर की दी गई जानकारियां

कृषि विश्वविद्यालय में आयोजित हुआ आयकर जागरूकता कार्यक्रम 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । कृषि विश्वविद्यालय में आयकर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में शरद कुमार अग्निहोत्री आयकर अधिकारी ने बताया की प्रत्येक व्यक्ति को एक वित्तीय वर्ष में किये समस्त लेनदेन को अपनी आयकर विवरणी में दर्शाना चाहिए। समय पर विवरणी जमा करानी चाहिए। इसके अलावा उन्होंने न्यू पेशन स्कीम की कटौतियों के बारे में, क्लेम के बारे में बताया। अनिल उपाध्याय आयकर
जागरूकता कार्यक्रम के दौरान मौजूद कुलपति व अन्य
अधिकारी ने अचल संपत्तियों लेन देन में होने वाले पूंजीगत लाभ तथा हानि के विषय में में बताया। शिवेन्दु श्रीवास्तव, आयकर निरीक्षक ने बताया कि बचत खातों में नकद जमा धनराशि 10 लाख से अधिक होती है तो इसकी सूचना विभाग के पास आती है। इनके स्रोतों की जांच करने के लिए करदाताओं को नोटिस भेजा जाता है। इन नोटिस के जवाब नहीं दिये जाने पर या जवाब में देरी करने पर 100 रुपए प्रतिदिन की दर से पेनाल्टी लगाए जाने का प्रावधान है। इसलिए आयकर विभाग की किसी भी नोटिस का जवाब समय पर देना ही लाभप्रद होता है। नहीं तो अन्य आयकर की धाराओं के अंतर्गत दंडात्मक प्रक्रिया प्रारंभ की जा सकती है।  कार्यक्रम में कुलपति यूएस गौतम के साथ कृषि विश्वविद्यालय के कर्मचारी मौजूद थे। अधिवक्ताओं में श्रीकान्त श्रीवास्तव मौजूद रहे। 

No comments