बाइक की टक्कर से साइकिल सवार मामा की मौत - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, January 15, 2020

बाइक की टक्कर से साइकिल सवार मामा की मौत

मासूम भांजे को भी आईं चोटें, अस्पताल में हुआ उपचार 
जिला अस्पताल में उपचार के दौरान मामा ने तोड़ा दम 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । बिसंडा कस्बे में साइकिल सवार मासूम मामा और भांजे को बाइक सवार ने सीधी टक्कर मार दी। जोरदार टक्कर लगने से मामा गंभीर रूप से घायल हो गया जबकि भांजें को मामूली चोटें आईं। बाइक सवार भी चोटहिल हुआ है। आनन-फानन में बिसंडा स्वास्थ्य केंद्र में उपचार कराया गया। वहां से हालत गंभीर होने पर ट्रामा सेंटर के लिए रेफर किया गया। ट्रामा सेंटर में उपचार के दौरान मासूम मामा की मौत हो गई जबकि भांजे और बाइक चालक का उपचार किया गया। पुलिस ने शव को मच्र्युरी हाउस में रखवा दिया है। गुरुवार को शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा। 
ट्रामा सेंटर में घायल हालत में लल्लू का उपचार करते चिकित्सक
गिरवां थाना क्षेत्र के बनसखा गांव निवासी लल्लू (12) पुत्र दादूराम दो दिन पूर्व अपनी बहन सावित्री की ससुराल बिसंडा गया हुआ था। बुधवार की दोपहर अपने भांजे रोहित (8) पुत्र राममनोहर के साथ साइकिल से घूम रहा था। तभी सामने से आ रही तेज रफ्तार बाइक ने साइकिल में जोरदार टक्कर मार दी। जोरदार टक्कर लगने के कारण मामा गंभीर रूप से घायल हो गया जबकि भांजे को मामूली खरोंच आई। बाइक सवार बुद्धविलास (38) निवासी अमवा (बिसंडा) भी घायल हो गया। आसपास मौजूद लोगों ने आनन-फानन में सभी घायलों को स्वास्थ्य केंद्र भिजवाया। वहां पर प्राथमिक उपचार के बाद हालत गंभीर होने पर लल्लू समेत तीनो लोगों को ट्रामा सेंटर उपचार के लिए रेफर कर दिया गया। एंबुलेंस के जरिए लल्लू की बहन सावित्री तीनो लोगों को ट्रामा सेंटर लाई, वहां पर उपचार के दौरान मासूम लल्लू की मौत हो गई। मौत की खबर मिलते ही सावित्री का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। मृतक लल्लू चार भाइयों में छोटा था। वह गांव के ही स्कूल में पढ़ता था। 

बहन ने त्योहार में बुलवाया था छोटे भाई को 

बांदा। ट्रामा सेंटर में मौजूद मृतक लल्लू की बहन सावित्री को जब पता चला कि उसके छोटे भाई की मौत हो गई है तो उसका रो-रोकर बुरा हाल हो गया। उसने बताया कि अपने छोटे भाई को उसने मकर संक्रांति पर्व के मौके पर बुलवाया था। दो दिन पहले ही उसका भाई घर आया था और आज वह दुनिया से हमेशा के लिए जुदा हो गया। यह कहते-कहते ही सावित्री बदहवास हो जाती रही। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages