Latest News

सीओ के कहने पर लिया प्रार्थना पत्र, दो घंटे में सबक सिखाने की दी धमकी

फरियादियों को दुत्कारने से बाज नहीं आ रहे जिम्मेदार

उरई (जालौन), अजय मिश्रा । पुलिस का भी अपना एक मिजाज है, उसे जो करना होता वह वही करती है। फिर चाहे उसके उच्च अधिकारी उसे आदेश ही क्यों न दें। लगातार पुलिस के आला अधिकारी थानेदार को फरियादियों के साथ अच्छा व्यवहार करने की नसीहत दें लेकिन अपनी अकड़ में इंस्पेक्टर मनमाना रवैया अख्तियार करने से बाज नहीं आते।
प्रार्थना पत्र लिये पीड़ित।
मामला रामपुर थाने का है, जहां शुक्रवार को अमर सिंह पुत्र गंगा प्रसाद निवासी भटपुरा नरौल अपनी पत्नी और भांजे के साथ शिकायती प्रार्थना पत्र लेकर गया। जिस पर इंस्पेक्टर आरके सिंह ने अभद्रता करते हुए प्रार्थना पत्र को फेंक दिया और फरियादियों से मनमाने तरीके से अभद्र भाषा का प्रयोग किया। फरियादी ने पूरे मामले को क्षेत्राधिकारी राहुल पांडे को बताया। जिसके बाद इंस्पेक्टर ने मजबूरी में प्रार्थना पत्र  तो ले लिया लेकिन फरियादियों की फजीहत करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। यही नहीं यह धमकी भी दे दी कि दो घंटे के अंदर तुम्हें सबक सिखा देंगे। पूरा रिकॉर्ड निकाल के तुम्हारे साथ जो किया जाएगा उसकी तुम्हें कल्पना भी नहीं होगी। योगी सरकार में इतनी बेलगाम पुलिस किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि शिकायतकर्ता अपनी शिकायत लेकर जाए और उसे इंस्पेक्टर न्याय देने की बजाय धमकी देने लगे। फरियादियों ने इंस्पेक्टर पर यह भी आरोप लगाया कि बार-बार कह रहे थे कि कहीं भी चले जाओ, जहां शिकायत करनी है वहां शिकायत कर दो लेकिन मुझे जो अच्छा लगेगा मैं वही करूंगा। साथ गए फरियादी के अध्यापक भांजे से भी अभद्रता करते हुए उसके पेशे पर टिप्पणी करते हुए बेइज्जत किया। हालांकि पूरे मामले पर पुलिस अधीक्षक ने संज्ञान लिया है।

No comments