Latest News

भाजपा ने प्रदेश परिषद के सदस्य घोषित किये

भाजपा ने दबे पांव मिशन 2022 की तैयारियां शुरू कर क्षेत्रीय समीकरण साधने की कवायद तेज कर दी है। इसके चलते 2012 के विधानसभा चुनाव में टिकट के प्रबल दावेदार रहे नेताओं को प्रदेश परिषद में भेज एक बार उन्हें दोबारा सक्रिय किया गया है। रविवार रात प्रदेश नेतृत्व की ओर से प्रदेश परिषद के सदस्य घोषित किये हैं।
जिलों में नामित सदस्य

कानपुर गौरव शुक्ला:- भाजपा ने कानपुर समेत अन्य जिलों में सदस्य नामित किए हैं। इनमें कानपुर दक्षिण से पूर्व जिलाध्यक्ष अनीता गुप्ता और पूर्व जिलाध्यक्ष विनोद शुक्ला, कानपुर उत्तर से प्रदेश संयोजक आपदा राहत मणिकांत जैन, पूर्व विधायक राकेश सोनकर, क्षेत्रीय मंत्री अरुण पाल, पूर्व जिलाध्यक्ष विजय सेंगर व जिलाध्यक्ष अनुसूचित मोर्चा सुख दयाल अहिरवार तथा कानपुर देहात से पूर्व जिलाध्यक्ष वंश लाल कटियार, मदन पांडेय और महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष शारदा संखवार शामिल हैं। कानपुर ग्रामीण जिले की घाटमपुर विधानसभा सीट से गीता सोनकर, बिठूर से सुशील कटियार एवं बिल्हौर से सियाराम कठेरिया को प्रदेश परिषद का सदस्य घोषित किया गया।

इसी तरह औरैया से गीता शाक्य व ललिता दिवाकर, बांदा से बलराम सिंह कछवाहा, गीता सागर, अजय पटेल, बालमुकुंद शुक्ल, चित्रकूट से शिवशंकरसिंह व रमेश चंद्र द्विवेदी, फर्रुखाबाद से भास्कर दत्त द्विवेदी, सुनील चक, दिनेश कटियार, फतेहपुर से दिनेश बाजपेयी, सोमनाथ निषाद, प्रभुदत्त दीक्षित, रामप्रतापसिंह गौतम, रमाकांत त्रिपाठी, हमीरपुर से अनिल कुमार अहिरवार, जगदीश प्रसाद व्यास, इटावा से प्रशांत राव चौबे, मनीष यादव, भाईदयाल दिवाकर, जालौन से संतराम सिंह सेंगर, नवाबसिंह जादौन, कन्नौज से योगेंद्र भदौरिया, श्याम स्वरूप चतुर्वेदी, महोबा से गंगाचरण राजपूत और पुष्पा अनुरागी को सदस्य बनाया है।

भाजपा के टिकट से चुनाव लड़ चुकी हैं गीता

घाटमपुर के गांव धमना बुजुर्ग निवासी गीता सोनकर वर्ष 2012 में भाजपा के टिकट से विधानसभा चुनाव लड़ी थी। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रहीं गीता तीसरे पायदान पर रह कर करीब 25 हजार मत पाई थीं। इसके बाद से वह भाजपा की राजनीति में सक्रिय हैं और भाजपा की पिछली क्षेत्रीय कमेटी में वह मंत्री थीं। 2017 में भी टिकट की प्रबल दावेदार रहीं गीता के बजाय पूर्व सांसद कमलरानी को टिकट दिया गया था। चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंची कमलरानी योगी आदित्यनाथ के कैबिनेट में प्राविधिक शिक्षा मंत्री हैं। गीता को प्रदेश परिषद में भेज पार्टी नेतृत्व ने भाजपा ने अनुसूचित जाति के मतों में अपनी पैठ मजबूत की है।

सुशील ने बिठूर से रखी थी दावेदारी

बिल्हौर क्षेत्र के निवासी सुशील कटियार 2017 के चुनाव में बिठूर से टिकट के दावेदार थे, लेकिन ऐन वक्त पर कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होकर टिकट पाए अभिजीत ङ्क्षसह सांगा चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे थे। सुशील कटियार अभी तक ग्रामीण जिले के अध्यक्ष थे। कार्यकाल समाप्ति के बाद उन्हें अब प्रदेश परिषद का सदस्य बनाया गया है।

सियाराम पर जताया भरोसा

बिल्हौर क्षेत्र के गांव कुरौली निवासी राजस्व सेवा से रिटायर होने के बाद भाजपा में शामिल होने वाले सियाराम कठेरिया 2017 में विधानसभा टिकट के दावेदार थे, लेकिन बसपा से निष्काषन के बाद भाजपा में सक्रिय पूर्व मंत्री भगवती प्रसाद सागर ऐन वक्त पर टिकट पाकर विधायक निर्वाचित हो गए थे। पार्टी नेतृत्व ने कठेरिया को दोबारा सक्रिय करके एक संदेश जरूर दिया है।

No comments