डकोर, पिण्डारी, नदीगांव तथा छिरिया में भौतिक प्रगति धीमी - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Tuesday, January 28, 2020

डकोर, पिण्डारी, नदीगांव तथा छिरिया में भौतिक प्रगति धीमी

जिलाधिकारी ने शासी निकाय की बैठक में की समीक्षा

उरई (जालौन), अजय मिश्रा । जिलाधिकारी डाॅ. मन्नान अख्तर की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति (शासी निकाय) की बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा पिछले माह बैठक की कार्यवृत्त के बारे में अवगत कराया। बैठक में जिलाधिकारी द्वारा माह दिसम्बर 2019 के प्रगति की समीक्षा की।
समीक्षा के दौरान वित्तीय समीक्षा में बताया गया कि कुल उपलब्ध धनराशि के सापेक्ष 72.21 प्रतिशत धनराशि व्यय हुई हैं तथा कमिटेड कराई गई धनराशि के सापेक्ष 35.28 प्रतिशत व्यय हुई हैं। इकाईबार जेएसवाई भौतिक प्रगति के संबंध में माह दिसम्बर 2019 की समीक्षा की गयी जिसमें बताया गया कि ब्लाक डकोर, पिण्डारी, नदीगांव तथा छिरिया में भौतिक प्रगति काफी कम है जिसको सुधार किये जाने की आवश्यकता हैं जिला महिला चिकित्सालय में 674 केसों का भुगतान लम्बित जोकि उचित नही हैं। जेएसएसके प्रगति माह दिसम्बर की समीक्षा की गयी जिसमें बताया गया कि प्रा. स्वा. केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जालौन तथा कोंच में जेएसएस के डाइट सभी शत-प्रतिशत मरीजों को नही दी जा रही है साथ ही ड्राप बैक की सुविधा नदीगांव, कुठौन्द तथा
शासी निकाय की बैठक लेते जिलाधिकारी।
सीएससी जालौन में न्यूनतम हैं। आरबीएसके प्रगति माह दिसम्बर की समीक्षा की गयी जिसमें बताया गया कि ब्लाक रामपुरा, पिण्डारी तथा बाबई में स्कूलों तथा आंगनबाड़ियों पर इनरोक्त बच्चों के सापेक्ष 55 प्रतिशत से कम बच्चे मिल रहे है जिस पर कार्यवाही किये जाने की आवश्कता हैं। आरसीएच पोर्टल की समीक्षा पर बताया गया कि कुठौंद, नदीगांव, डकोर, कदौरा, छिरिया, कालपी, जालौन, उदनपुरा, बघौरा, उमरारखेरा, तुफैलपुरवा, गोखले नगर एवं हरीपुरा की प्रगति जनपद औसत 27 प्रतिशत से कम बतायी गयी हैं। प्रेग्नेन्ट वूमेन के संबंध में बताया गया कि डकोर, कदौरा, महेवा, नदीगांव, कालपी, उदनपुरा, बघौरा, तुफैलपुरवा, गौखले नगर एवं हरिपुरा की प्रगति जनपद औसत 37.52 प्रतिशत से कम बतायी गयी हैं। इन्फेन्ट के संबंध में बताया गया कि डकोर, कदौरा, कुठौन्द, उदनपुरा, बघौरा, तुफैलपुरवा, गौखलेनगर एवं हरिपुरा की प्रगति जनपद औसत 29 प्रतिशत से कम बतायी गयी हैं। पंजीकृत महिलाओं की संख्या/एएनसी रजिस्ट्रेशन के संबंध में बताया कि डकोर, पिण्डारी, रामपुरा, माधौगढ़, कुठौन्द, बाबई, जालौन, जिला महिला चिकित्सालय एवं उरई अरबन की प्रगति गत वर्ष के सापेक्ष कम बतायी गयी हैं। पंजीकृत महिलाओं के प्रथम तिमाही की गत वर्ष की स्थिति 2018 के सापेक्ष 2019 में पिण्डारी, बाबई, कालपी की प्रगति लक्ष्य के सापेक्ष कम पायी गयी। संस्थागत प्रसव के संबंध में गत वर्ष 2018 के सापेक्ष वर्तमान स्थिति 2019 में डकोर, माधौगढ़, बाबई, कोंच, कालपी की प्रगति कम पायी गयी। एचबीएनसी विजिट सूचना के संबंध में गत वर्ष 2018 के सापेक्ष 2019 में डकोर, पिण्डारी, नदीगांव, रामपुरा, माधौगढ़, छिरिया, बाबई, कदौरा एवं उरई अरबन की प्रगति गत वर्ष के सापेक्ष कम थी। जन्म संबंधी सूचना के संबंध में गत वर्ष 2018 के सापेक्ष 2019 में डकोर, नदीगांव, माधौगढ़, छिरिया, बाबई, कोंच, कालपी की प्रगति गत वर्ष के सापेक्ष कम रही। 2.5 किलोग्राम से कम संबंधी सूचना, मृत जन्म स्थिति, विटामिन की सूचना, पुरूष नसबंदी, परिवार कल्याण कार्यक्रम समीक्षा, गर्भवती महिलाओं की एचआईवी जाॅच की स्थिति, बच्चों का पूर्ण टीकाकरण, कम्युनिटी प्रोसिस के अन्तर्गत विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा, ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता पोषण समिति व उपकेन्द्र अन्टाईड खातों की स्थिति, रोग कल्याण समिति की व्यय रिपोर्ट, आशा चयन, प्रधानमंत्री मातृ- वन्दना योजना माह जनवरी 2020, क्वालिटी एश्योरेंस/कायाकल्प का विवरण, वीएचएसएनसी गठन की सूचना, कम्यूनिटी चेकलिस्ट स्थिति, यूपी हेल्थ डेश बोर्ड स्थिति माह नवम्बर 2019 सूचना आदि के बारे मे जिलाधिकारी महोदय द्वारा बिन्दुवार समीक्षा की जो कि गत वर्ष 2018 की तुलना में वर्तमान वर्ष 2019 के लक्ष्य के सापेक्ष जिन इकाई की प्रगति कम पायी गयी है उसमें तेजी लाये जाने के निर्देश दिया। उन्होने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत इनीमिया मुक्त भारत, आईईसी कैम्पेन जिला स्तरीय समन्वय बैठक की समीक्षा की जिस पर संबंधित द्वारा विस्तार से अवगत कराया गया। जिस पर जिलाधिकारी इस कार्य में जुड़े विभागीय अधिकारियों को समन्वय स्थापित करते हुये कार्यो को पूर्ण कराये। उन्होने यह भी कहा कि इसके लिये विद्यालयों में प्रचार-प्रचार कराये तथा बच्चों की जानकारी हेतु साहित्य भी वितरण कराये। जिससे इसके बारे में अधिक से अधिक जागरूकता आयेगी। बैठक में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. सत्यप्रकाश, समस्त सीएससी एवं पीएससी के चिकित्सा अधिकारी एवं प्रभारी चिकित्सा अधिकारी सहित संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहें।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages