Latest News

एक पखवारे बाद खुले शिक्षा मंदिरों के कपाट

खिली तेज धूप में स्कूल गए बच्चे, अच्छा गुजरा दिन 
शिक्षा अध्ययन के बाद ग्राउंड में बच्चों ने लगाई दौड़ 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । दिसंबर माह की शुरुआत से ही कड़ाके की ठंड पड़ने लगी थी। जबरदस्त शीतलहरी के चलते शासन और प्रशासन के निर्देश पर शिक्षा मंदिरों में छुट्टी घोषित कर दी गई थी। बीच-बीच में स्कूल खुले भी लेकिन जबरदस्त ठंडक के कारण बच्चे स्कूल बहुत ही कम संख्या में पहुंचे। इसके बाद फिर से शीत अवकाश घोषित कर दिया गया था। तकरीबन एक पखवारे के बाद सोमवार को शिक्षा मंदिरों के कपाट खुले। कड़क धूप
स्कूल के मैदान में प्रार्थना के बाद बच्चों को संबोधित करते शिक्षक
में बच्चे भी स्कूल गए और शिक्षा अध्ययन के बाद स्कूली ग्राउंड में ही जमकर खेले कूदे। दिसंबर के दूसरे पखवारे में ही शासन और प्रशासन की ओर से जबरदस्स्त शीतलहरी के चलते शिक्षा मंदिरों में शीत अवकाष घोषित कर दिया गया था। बीच में स्कूल खुले भी लेकिन बच्चों की संख्या ठंड के चलते बहुत ही कम रही। बर्फबारी और बारिश तथा ओलावृष्टि का सिलसिला शुरू हुआ तो जबरदस्त शीतलहरी ने पूरे जिले को अपनी आगोश में ले लिया। इसको ध्यान में रखते हुए शासन और प्रशासन स्तर से शीत अवकाश घोषित कर दिया गया। 
क्लास में शिक्षा अध्ययन करते बच्चे
कुल मिलाकर तकरीबन एक पखवारे तक शिक्षा के मंदिर बंद रहे। इत्तफाक की बात है कि सोमवार को आसमान पूरी तरह से साफ था और सोमवार का दिन होने के कारण छुट्टी खत्म होने पर शिक्षा मंदिरों के कपाट भी खुल गए। कड़क धूप के बीच बच्चे सोमवार को स्कूल गए। ठंड भी कम थी। शिक्षा अध्ययन करने के बाद जब छुट्टी हुई तो काफी दिनों बाद खुले मौसम में निकली तेज धूप के बीच बच्चों ने स्कूलों के ग्राउंड में जमकर खेले कूदे और पसीना बहाया। 

No comments