Latest News

निजी चिकित्सालयों, नर्सिंग और मैटरनिटी होम के लिए मानक व शर्तें तय

मानक पूरा होने पर ही नवीनीकरण: सीएमओ

बिजनौर (संजय सक्सेना) जिले में चिकित्सा सेवाएं  प्रदान करने वाले निजी चिकित्सालयों, नर्सिंग होम और मैटरनिटी होम का तय मानक व शर्ते पूरी होने पर ही पंजीकरण व नवनीकरण किया जायेगा। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. विजय कुमार यादव ने कहा कि तय मानक और शर्तें पूरी नहीं करने वाले निजी चिकित्सालयों ,नर्सिंग होम व मैटरनिटी होम का नवनीकरण व पंजीकरण नहीं किया जायेगा। सीएमओ डॉ. विजय कुमार यादव ने कहा कि जिले में चिकित्सा सेवाएं देने वाले निजी चिकित्सालयों ,नर्सिंग होम व मैटरनिटी होम के पंजीकरण व नवनीकरण के आठ बिन्दु निर्धारित किये गए हैं। चिकित्सा सेवा प्रदान करने वाले प्रतिष्ठान को नवनीकरण व पंजीकरण के लिए संस्थागत प्रसव (इंस्टीट्यूशनल डिलीवरी) , टीबी केस, परिवार कल्याण में किये गए नसबंदी केस, किये गए टीकाकरण की रिपोर्ट सलग्न करनी होगी। इसके अलावा क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा दी गयी एनओसी, विद्युत संयोजन से सम्बंधित विद्युत सुरक्षा निदेशालय के सक्षम अधिकारी द्वारा निर्गत अनापत्ति प्रमाण पत्र ,अग्निशमन विभाग का अनापत्ति प्रमाणपत्र तथा आयुष्मान योजना के अंतर्गत पंजीकृत चिकित्सालयों  ने  कितने मरीजों का उपचार किया आदि  की जानकारी देनी होगी।

  उन्होने बताया कि  पंजीकरण अथवा नवनीकरण के लिए आवेदन दो प्रतियों  में वर्ष 2019 -20 में कराये गए पंजीकरण व नवनीकरण की छाया प्रति सहित 30 अप्रैल 2020 से पूर्व उनके कार्यालय में प्राप्त कराना होगा। चिकित्सा संस्थान के नवनीकरण कराने के लिए पैरा मेडिकल कर्मियों के शैक्षिक प्रमाण पत्रों की प्रमाणित प्रति एवं फैकल्टी से कराये गए रजिस्ट्रेशन की प्रमाणित प्रतियां एवं उनका शपथ पत्र कि वह आपके संस्थान में कार्यरत है सलग्न करना होगा ,यदि चिकित्सालय ,नर्सिंग होम में प्रदत्त चिकित्सा सेवाओं  में परिवर्तन किया गया है तो उसके संबंध में अभिलेख एवं शपथ पत्र सलग्न करना होगा।

No comments