Latest News

सगर मंथन की कथा हर युग में प्रासंगिक: गोपालकृष्ण

काली देवी मंदिर में आयोजित श्रीमद्भागवत कथा सप्ताह 

तिंदवारी (बांदा), कृपाशंकर दुबे । कस्बे के काली देवी माता मंदिर परिसर में चल रहे संगीतमयी श्रीमद्भागवत कथा सप्ताह में कथा वाचक बाल व्यास पं.गोपाल कृष्ण ने सागर मंथन की कथा को हर युग में प्रासंगिक बताया। कहा कि मंथन से निकलने वाला अमृत व विष मनुष्य अपनी प्रवृत्ति से हासिल कर सकता है। मनुष्यों को धर्म व नीति के पथ पर चलते हुए परम आनंद की प्राप्ति की प्रेरणा दी।
कथा सुनाते बाल व्यास पंडित गोपालकृष्ण
गुरुवार को पुरानी तिंदवारी स्थित काली देवी मंदिर में आयोजित श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ सप्ताह में कथा वाचक बाल व्यास पं.गोपाल कृष्ण ने श्रद्धालु श्रोताओं पर जमकर भागवत रसवर्षा की और श्रीमद्भागवत का कुछ अंश जीवन में उतारकर मनुष्य योनि को धन्य बनाने की प्रेरणा दी। कहा कि सागर मंथन में निकले अमृत व विष का तात्पर्य मनुष्य की प्रवृत्तियों से है। मनुष्य जहां अधर्म व पाप की राह पकड़ कर विष रूपी नकारात्मकता
मौजूद श्रोतागण
हासिल करता है, वहीं धर्म व नीति के अनुसार चलने वाला मनुष्य जीवन का अमृत हासिल कर लेता है। कहा कि पाप कर्मों में लिप्त मनुष्य अपराध बोध के चलते सदैव अशांत रहता है और धार्मिक राह पर चलने वाला मनुष्य परम आनंद की अनुभूति को हासिल करता है। इस अवसर पर भाजपा नेता आनंद स्वरूप द्विवेदी, देवनारायण पटेल, राममिलन सिंह पटेल, अतुल दीक्षित, ओमप्रकाश मिश्रा, देवीदीन कुशवाहा, अखिल पटेल, अरुण सिंह पटेल प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

No comments