Latest News

बैंकों में ठप रहा कामकाज, सरकारी कार्यालयों में रहा सन्नाटा

लगभग सभी कर्मचारी संगठनों ने की संयुक्त हड़ताल 
भारत बंद व हड़ताल से बैंकों सहित सरकारी कार्यालयों में ठप रहा कामकाज

बांदा, कृपाशंकर दुबे । बुधवार को बैंक, विद्युत विभाग, मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव, भारतीय जीवन बीमा निगम समेत लगभग सभी सरकारी कर्मचारी संगठन केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ संयुक्त हड़ताल पर रहे। हड़ताल के चलते जहां बैंकों में करोड़ों का कारोबार प्रभावित हुआ, वहीं विभिन्न सरकारी विभागों में कामकाज ठप होने से जरूरतमंद इधर उधर भटकते रहे। बैंकों के बाहर कर्मचारियों ने नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया तो विद्युत विभाग के कर्मचारियों ने काम बंद करके मुख्य अभियंता कार्यालय में धरना दिया। 
बुधवार को एआईबीईए, एआईबीओए, बैफी, इन्बैक, इन्ब्रौक के संयुक्त आह्वान पर जिले के सभी राष्ट्रीकृत,
बैंक के बाहर प्रदर्शन करते बैंक कर्मचारी व अधिकारी।
ग्रामीण, कोआपरेटिव बैंकों के सभी अधिकारी, कर्मचारियों ने बैंक मुख्यालय के बाहर नारेबाजी की और अपनी मांगों को पूरा करने को लेकर आवाज बुलंद की। यूपी बैंक इप्लाइज यूनियन (यूपीबीईयू) जिला यूनिट मंत्री रावेंद्र कुमार शुक्ला ने बताया है कि उनकी मांगों में अस्थाई, आकस्मिक व अंशकालिक कर्मियों का स्थायीकरण करने, बैंकों के निजीकरण संबंधी संशोधित विधेयक को वापस लेने, कर्मचारियों को समय से भत्तों का लाभ दिए जाने, मृतक आश्रितों को नौकरी दिए जाने, बैंकों में पर्याप्त स्टाफ की भर्ती करने समेत महासंघ के 12 सूत्रीय मांग पत्र की सभी मांगें प्रमुखता से शामिल हैं। बताया है कि एक दिन की ही हड़ताल से करीब 25 करोड़ से अधिक का कारोबार प्रभावित हुआ है। सरकार पर अड़ियल रुख अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा है कि यदि जल्द ही उनकी मांगों पर विचार नहीं किया गया तो वह अनिश्चितकालीन हड़ताल करने को विवश होंगे। इस मौके पर अध्यक्ष नितिन श्रीवास्तव, नरेंद्र कश्यप, इंद्रनाथ मित्रा, हरीनारायण तिवारी, अंकुर श्रीवास्तव, अरुण कुमार, देवीदीन, संतोष कुमार, अशोक, राजकुमार, राकेश गुप्ता, आशीष सिंह, नीरज तिवारी, शशिकांत गुप्ता, राजेश, जितेंद्र सागर, नवल किशोर, राघवेंद्र त्रिपाठी, आसिफ अली आदि उपस्थित रहे। इसी तरह इलाहाबाद बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, यूनियन बैंक समेत सभी राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्मचारी हड़ताल पर रहे। जबकि भारतीय जीवन बीमा निगम के कर्मचारियों ने हड़ताल के दौरान एलआईसी बिल्डिंग के बाहर नारेबाजी की और अपनी मांगों को पूरा करने की मांग की। उनकी मांगों में वेतन निर्धारण, पेंशन बहाली, नई भर्तियां व सरकारी हस्तक्षेप आदि शामिल रहे। 

No comments