Latest News

पहली फरवरी को शहर भ्रमण करेगी अमर शहीद कलश यात्रा

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने प्रेस वार्ता कर दी जानकारी 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद कानपुर प्रांत जलियावाला बाग शहाद के 100 वर्ष पूरे होने पर उनको श्रद्धा सुमन अर्पित करने के लिए जलियावाला बाग के स्थान की मिट्टी को लेकर एक कलश यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। अमर शहीद कलश यात्रा पहली फरवरी को शहर के विभिन्न कालेज कैंपसों व नगर के प्रमुख स्थानों पर भ्रमण करेगी। 
यह जानकारी अमर शहीद कलश यात्रा संयोजक सुधांशु सिंह चैहान ने दी। प्रेस वार्ता के दौरान श्री चैहान ने बताया कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने राष्ट्र पुननिर्माण के लिए कार्य करने का लक्ष्य सामने रखकर अखिल भारतीय छात्र संगठन के रूप में सामाजिक जीवन के सभी क्षेत्रों में कार्य प्रारंभ किया है। शिक्षा, परिवार की सामूहिक शक्ति में विश्वास रखकर रचनात्मक कार्यों से कर्तव्यों का समायोजन करने वाला संगठन है। उन्होंने बताया कि जलिया वाला बाग शहादत के 100 वर्ष पूरे होने पर शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित करने के लिए जलिया वाला बाग के स्थान की मिट्टी को लेकर एक कलश यात्रा का आयोजन कर रहा है। जिसका नाम अमर शहीद कलश यात्रा है। यह यात्रा 31 जनवरी को चित्रकूटधाम कर्वी से प्रारंभ होकर एक फरवरी को नगर के
प्रेस वार्ता में जानकारी देते सुधांशु चौहान व अन्य
विभिन्न कालेज कैंपसों में और नगर के प्रमुख स्थानों से होकर गुजरेगी। यह कलश यात्रा विभिन्न जनपदों से होकर महारानी लक्ष्मीबाई की पावन धरती झांसी में 7 फरवरी को समाप्त होगी। भारत की स्वतंत्रता के लिए न जाने कितने वीरों ने जान तक न्योछावर की है, उनमें से अनेक वीरों के नाम तक ज्ञात नहीं हैं। उनहें आज हम भूल जैसे गए हैं। उनके आदर्श से आज की युवा पीढ़ी अंजान है। इन विभूतियों के नाम केवल इतिहास के पन्नों तक सीमित रह गए हैं। भारत का इतिहास रहा है कि यहां कई महापुरुष हुए, जिन्होंने देश की सेवा के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित किया है। 13 अप्रैल 1919 को हुए अमृतसर के जलियावाला बाग नरसंहार ने देश के युवकों को आंदोलित कर दिया है। यह आग असहयोग आंदोलन में ज्वालामुखी बनकर फटी। देश को शहीद भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद जैसे अनेको क्रांतिकारी मिले। 13 अप्रैल 1919 को बैसाखी के दिन अमृतसर के जलिया वाला बाग रोलेट एक्ट के विरोध में एक सभा आयोजन की गई थी, लेकिन ब्रिटिश सरकार के जनरल डायर ने निहत्थे लोगों पर 10 मिनट में 1650 राउंड गोलियां चलाई थीं। इस घटना के 100 वर्ष पूरे होने पर एबीवीपी द्वारा फिर युवाओं को क्रांतिकारियों की शहादत को यार दिलाने के उद्देश्य से यह अमर शहीद कलश यात्रा का आयोजन कर रहा है। प्रेस वार्ता में यह जानकारी सह संयोजक वैभव रघुवंशी, यात्र संयोजक सुधांशु सिंह चैहान, यात्रा सह संयोजक शिवांगी चैहान, अतुल साहू आदि ने दी। इस दौरान अजय गौतम, सुमन चैळान, विप्रो गुप्ता, पायल, पंकज त्रिवेदी, आशीष गौतम, दिव्यांश, शिवेंद्र, उदय प्रताप, मोहिल गुप्ता, अभिषेक निगम, आकांक्षा, अनुराग विश्वकर्मा, महेश मिश्र, राजीव भुर्जी, सूर्यांश, सुयश, गौरव त्रिपाठी, आदित्य गुप्ता, सुमित तिवारी, ऋषभ त्रिपाठी आदि मौजूद रहे। 

No comments