बैंक कर्मियों की हड़ताल से ग्राहक परेशान - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, January 8, 2020

बैंक कर्मियों की हड़ताल से ग्राहक परेशान

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। अलग-अलग संगठनों ने मांगों के संबंध में मुख्यालय में प्रदर्शन कर सरकार विरोधी नारे लगाए। ज्ञापन सौपकर निदान की मांग की है।
बुधवार को केन्द्रीय कर्मचारी संगठनों केे आवाहन पर भारतीय रिजर्ब बैंक के कर्मचारी बैंकों में ताला लगाकर हड़ताल पर रहे। वर्षों से लंबित मांगें पूरी न होने से रोष व्याप्त है। समस्त राष्ट्रीयकृत बैंक बंद कर सरकार विरोधी नारे लगाए गए। बैंकर्स यूनियन के पदाधिकारियों ने सरकार की नीति के विरोध में बैंक के बाहर एकत्र होकर प्रदर्शन किया। मांगें दोहराते हुए ज्ञापन सौपा। हड़ताल सेे लगभग पांच करोड़ का लेन-देन प्रभावित

हुआ है। पदाधिकारियों ने बताया कि पूर्व में भारतीय बैंक संघ एवं कर्मचारियों के राष्ट्रीय यूनियन के माध्यम से कई बार वार्ता हो चुकी है, लेकिन अडियल रवैया के चलते विफल रही। ऐसे में हड़ताल को बाध्य हुए हैं। इलाहाबाद बैंक स्टाफ एसोसिएशन के जिला मंत्री केशव रजक ने बताया कि हड़ताल के चलते उपभोक्ता खासा हलाकान हुए। करोड़ों का समाशोधन नहीं हो सका। इस मौके पर अजय सिंह, अभिमन्यु सिंह, शीतल प्रसाद, देवी प्रसाद, देशांत, विजेन्द्र कुमार, नवीन प्रताप सिंह, आरएस गुप्ता, धर्मेन्द्र सिंह आदि मौजूद रहे।

विद्युत अधिकारी, कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार

चित्रकूट। विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के आवाहन पर विभिन्न समस्याओं के समाधान को राष्ट्र व्यापी कार्य बहिष्कार पूरी एकजुटता के साथ करते हुए अधिकारी व कर्मचारियों ने अधीक्षण अभियंता कार्यालय के बाहर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। समिति के इं महेन्द्र कुमार कुरील व वीरेन्द्र अहिरवार ने बताया कि विद्युत विभाग का निजीकरण किया जा रहा है। जिसे समाप्त किया जाए। पूर्व की भांति बिजली निगमों का एकीकरण हो। पुरानी पेंशन बहाल करें। वेतन विसंगतियां दूर कर संविदा कर्मियों का नियमितीकरण, समिति के बीच हुई त्रिपक्षीय समझौते के अनुरूप 14 जनवरी 2000 के पूर्व राज्य विद्युत परिषद कर्मचारियों का मिल रही विद्युत सुविधा में निर्गत शासनादेश लागू, बिजली के निजीकरण की दृष्टि से इलेक्ट्रिसिटी एक्ट में किए जाने वाले समस्त संशोधन वापस लें। कर्मचारियों के रिफार्म एक्ट एवं तबादला स्कीम के तहत मिल रही रियायती बिजली की सुविधा पूर्ववत व मीटर लगाने के आदेश वापस हों। इस मौके पर अनुपम कुमार, रविकांत, विनय कुमार, रविशंकर, हरिओम गुप्ता, करन सिंह, वकीलराम, विनोद कुमार, संजय सचान, राममूरत, उमतलाल, शिवकुमार, सीताराम, दिलीप शर्मा, संदीप कुमार, विवेक कुमार, रुद्र प्रताप सिंह, अनिल कुमार, लक्ष्मी पाल आदि मौजूद रहे।

आंगनबाडी कर्मचारी संघ का प्रदर्शन

चित्रकूट। महिला आंगनबाडी कर्मचारी संघ की जिलाध्यक्ष अमृता चतुर्वेदी की अगुवाई में आंगनबाडी कार्यकत्रियों ने मुख्यालय के तहसील परिसर में छह सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौपा। ज्ञापन में कहा कि प्रोत्साहन राशि 15 सौ रुपए्र मानदेय में बदला जाए। प्रधान की भागीदारी खत्म हो। पेंशन ेयोजना लागू करें। विभाग का निजीकरण न करते हुए श्रम कानून तत्काल वापस लें। वर्ष 2017 माह अक्टूबर, नवम्बर, दिसम्बर का रोका गया वेतन बहाली, प्रत्येक माह का मानदेय खाता में भेजें। किराया भत्ता देने के साथ ही स्टेशनरी सामग्री के लिए पैसा मिले। इस मौकेे पर रसीदा बेगम, शैल श्रीवास्तव, मंजू, शिखा अग्रवाल, निशा, शशिकला, अरुन्धती, बिमला, कविता, शमा बेगम आदि मौजूद रहीं।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages