Latest News

गुस्साए ग्रामीणों ने विद्यालय में बंद किए अन्ना मवेशी

गुस्साए ग्रामीणों ने विद्यालय में बंद किए अन्ना मवेशी
प्रधान ने अन्ना मवेशियों के लिए गौशाला में कराया इंतजाम

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। किसानों के लिए बवाले जान बने अन्ना जानवरों को ग्रामीणों ने प्राथमिक विद्यालय में बंद कर दिया। जिससे पठन-पाठन प्रभावित हुआ। सूचना पर पहंुचे एडीओ पंचायत समेत राजस्व अधिकारियों ने मामला शांत कराया। प्रधान ने गौशाला में अन्ना जानवरों को शिफ्ट कराया है।



अन्ना पशुओं को विद्यालय में कैद करने का ये मामला मानिकपुर ब्लाक क्षेत्र के कौबरा गांव के मजरा पोखरी पुरवा का है। बताया गया कि मंगलवार को तहसील क्षेत्र के किसानों ने इस भीषण ठंड में कडी मशक्कत कर खेतों में फसल बोया है। अन्ना जानवरों की देखरेख के लिए बाड़ आदि भी लगाते हैं। रातभर रखवाली करने के बावजूद सूना पाकर फेंसिंग तोड़ते हुए खेतों में घुस जाते हैं। फसल बरबाद हो रही है। ऐसे में क्षुब्ध किसानों ने एकत्र होकर दर्जनों अन्ना मवेशियों को प्राथमिक विद्यालय में बंद कर दिया। जब बच्चे स्कूल पहुंचे तो बंद मिलनेे पर इंतजार करते रहे। पठन-पाठन प्रभावित होने की जानकारी शिक्षकों ने उच्चाधिकारियों को दी। सूचना पर पहुंचे एडीओ पंचायत ने ग्रामीणों को समझा कर मामला शांत कराया। प्रधान ने आनन-फानन विद्यालय से अन्ना जानवरों को गौशाला भेजा है। बताया कि पड़ोसी गांव के अन्ना जानवर लाकर विद्यालय में बंद किए गए हैं। गांव में पूर्व से गौशाला है। जहां 120 जानवरों का भरण-पोषण हो रहा है। अब एक सैकड़ा से अधिक मवेशी बढ़ गए हैं। 


No comments