Latest News

संस्था को विभाग तत्काल दें सूचनाएं

रिमोट सेंसिंग एप्लीकेशन डाटाबेस एकत्र करने संबंधी हुई कार्यशाला

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरी । जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में रिमोट सेन्सिंग एप्लीकेशन्स सेंटर लखनऊ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के तत्वावधान में अर्द्धदिवसीय कार्यशाला का आयोजन हुआ। जिलाधिकारी ने अधिकारियों से कहा कि जिन विभागों के बिन्दु हैं वह बतायी गई गतिविधियों की जानकारी अच्छी तरीके से करें। ताकि अनुपालन करने में कोई समस्या न हों। यह जनपद अकांक्षी में शामिल है। इसमें कई संस्थाएं कार्य कर रही हैं। जनपद में रैन वाटर हार्वेंस्टिंग के कार्य कराये गये। जिसमें अच्छा परिणाम मिला है। उन्होंने कहा कि इस संस्था को जो भी सूचनाएं विभागों से चाहिए वह तत्काल उपलब्ध करा दें। ताकि कार्यक्रम संचालन में कोई समस्या उत्पन्न न हों।
कार्यशाला में रिमोट सेन्सिंग एप्लीकेशन्स सेंटर के परियोजना वैज्ञानिक डा जयकुमार मिश्रा एवं डा पूनम वाष्र्णेय ने रिमोट सेन्सिंग एप्लीकेशन्स सेंटर में एनआरआईएस परियोजना में रिमोट सेन्सिंग एवं जीआईएस तकनीक का उपयोग कर जनपदवार तैयार किये गये डिजिटल डाटाबेस का प्रस्तुतिकरण किया गया। इसके अलावा उन्होंने रिमोट सेन्सिंग जीआईएस एवं जीपीएस तकनीक के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस तकनीक का उपयोग कृषि, राजस्व, भूसंचय, जल संचय, प्राकृतिक आपदा, ग्राम विकास, पंचायती राज, सिंचाई विभाग, जल निगम, नलकूप, सड़क, वन आदि में किया जाता है एवं भुवन पोर्टल पर भी जाकर इस संबंध में जानकारी प्राप्त की जा सकती है। उक्त के अतिरिक्त लिडार तकनीक के बारे में भी जानकारी दी गई। नेशनल सेंटर आफ़ जियो इन्फारमेटिक्स बेव पोर्टल के माध्यम से विभिन्न विभागों के डाटाबेस के बारे में भी जानकारी दी गई। कार्यशाला में अपर जिलाधिकारी, उप जिलाधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला विकास अधिकारी, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी, उप निदेशक कृषि, कृषि रक्षा अधिकारी, जिला उद्यान अधिकारी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, भूमि संरक्षण अधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी, अधिशाषी अभियंता लोक निर्माण, जिला विद्यालय निरीक्षक सहित खण्ड विकास अधिकारी मौजूद रहे।

No comments