Latest News

अपने आप में अनूठा है दीवारी कला नृत्य: अपर जिलाधिकारी

नटराज संगीत महाविद्यालय में मंडलीय सांस्कृतिक प्रतियोगिता का आयोजन 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । बुन्देलखण्ड की लोककला दीवारी नृत्य ने न केवल देश अपितु विदेशों में भी अपनी खुशबू बिखेरी है। इस लोक कला से जुडे़ हुए कलाकार पूरी तन्मयता और लगन से जुड़कर इस कला को आगे बढ़ाने का कार्य कर रहे हैं। यह बात अपर जिलाधिकारी संतोष बहादुर सिंह ने नटराज संगीत महाविद्यालय में आयोजित सांस्कृतिक प्रतियोगिता-दीवारी, पाई डंडा कार्यक्रम में कही। 
एडीएम ने कहा कि दीवारी नृत्य की उत्पत्ति द्वापर युग में भगवान कृष्ण के समय से हुई है तथा दीवारी नृत्य में युद्ध कला का प्रदर्शन भी किया जाता है। उन्होंने कहा कि यह नृत्य योद्धाओं के युद्ध कौशल पर आधारित है। सांस्कृतिक प्रतियोगिता में भाग लेने वाली सभी टीमों को अपर जिलाधिकारी ने बधाई देते हुए कहा कि उनकी
दीवारी कला नृत्य
कला का प्रदर्शन बहुत ही सराहनीय है। उप निदेशक सूूचना भूपेन्द्र सिंह यादव ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि बुन्देलखण्ड़ की। इस लोक कला को यहां के लोक कलाकार न केवल जिन्दा रखे हुए हैं अपितु इस कला को आगे बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा माना जाता है कि दीवारी नृत्य का उद्गम एवं विकास बुन्देलखण्ड के जनपद से हुआ है। श्री यादव ने कहा कि पाई डण्डा एवं दीवारी नृत्य में युद्ध के समय प्रयोग होने वाले वाद्य यंत्र नगाड़ा एवं उसका लघु रूप नगड़िया का प्रयोग होता है। पैर एवं कमर में घुंघरू की पाजेब एवं पेटी का प्रयोग होता है। उन्होंने बताया कि सांस्कृतिक प्रतियोगिता में रमेश पाल की टीम ने प्रथम, चन्द्रपाल की टीम ने द्वितीय, अनिल की टीम ने तृतीय तथा लल्लू प्रसाद की टीम ने चतुर्थ स्थान प्राप्त किया।
बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय बांदा के जनसम्पर्क अधिकारी प्रो. वीके गुप्ता ने कहा कि यहां के कलाकार बधाई के पात्र हैं क्योंकि वे अपनी लोक कला को न केवल बचाए हुए हैं। अपितु आगे बढ़ाने का कार्य कर रहे हैं। सहायक अभियंता दूरदर्शन अजय शंकर त्रिपाठी ने कहा कि इस कला में ऊर्जावान कलाकारों की प्रतिभा को देखने का अवसर मिलता है तथा यह कलाकार अगली पीढ़ी को भी अपनी कला से जोड़ रहे हैं। यह बहुत ही सराहनीय है। डा. जनार्दन प्रसाद त्रिपाठी ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि पाई डण्डा एवं दीवारी नृत्य संसार के सभी मार्शल आर्ट का जन्मदाता है। उन्होंने कहा कि इस नृत्य की पूरी प्रक्रिया में एकाग्रता एवं सन्तुलन की आवश्यकता होती है तथा इसकी तुलना शिव के ताण्डव नृत्य से की जा सकती है। कार्यक्रम का संचालन नटराज संगीत महाविद्यालय के प्रबन्धक श्री धनंजय सिंह ने किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0) श्री संतोष बहादुर सिंह ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस अवसर पर दूरदर्शन के सजल कुमार, जिला प्रतिनिधि यू0एन0आई0 दिनेश कुमार मिश्र उर्फ सुमन तथा दीवारी नृत्य से जुडे़ हुए कलाकार, बुद्धिजीवी व गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

No comments