Latest News

जागरूकता को गंगा तटीय गांव में चलेगा प्रोजैक्टर

बिजनौर (संजय सक्सेना)  जिलाधिकारी रमाकांत पाण्डेय ने सभी संबंधित विभागीय अधिकारियों को कड़े निर्देश देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री की गंगा यात्रा से संबंधित विभागीय कार्य योजना माईक्रो प्लान सहित आगामी बैठक में प्रस्तुत करना सुनिश्चित करें ताकि निम्न स्तर तक के दायित्वों के निर्धारण की स्थिति स्पष्ट हो सके। 
उन्होने गंगा तटीय स्थित 22 ग्राम पंचायतों में स्थित स्कूलों में रंगाई-पुताई, सफाई, स्वच्छ पेयजल, शौचालय सहित सभी व्यवस्थाएं दुरूस्त करने के निर्देश जिला बेसिक शिक्षाधिकारी को देते हुए विद्यालय के मैदानों में नियमित रूप से खेल प्रातियोगिताएं आयोजित किए जाने की भी अपेक्षा की। इसके अलावा बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारी को यह भी निर्देश दिए कि प्रत्येक स्कूल में स्वच्छ गंगा बाल समिति बना कर स्वच्छता के संबंध में छात्रों को जानकारी उपलब्ध कराएं और उन्हीं छात्रों के माध्यम से ग्रामवासियों को गंगा को स्वच्छ रखने के लिए जागरूक करें और सामूहिक रूप से शपथ भी दिलाएं। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश दिए कि चयनित गंगा तटीय गांव में प्रोजैक्टर की व्यवस्था सुनिश्चित करते हुए उसके माध्यम से ग्रामीणों को गंगा, राष्ट्रीय धरोहर एवं सांस्कृतिक एवं लोक धरोहरों को चलचित्र द्वारा प्रदर्शित करने की व्यवस्था करें। जिलाधिकारी श्री पाण्डेय अपने कैम्प कार्यालय पर प्रस्तावित गंगा यात्रा को सुव्यवस्थित और सफल रूप से सम्पन्न कराने के उददेश्य से आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपस्थित विभागीय अधिकारियों को निर्देश दे रहे थे।


उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री के कुशल मार्ग निर्देशन में आगामी 27 जनवरी, 20 से 31 जनवरी, 2020 तक (पांच दिवसीय) बिजनौर से कानपुर तथा बलिया से कानपुर गंगा यात्रा प्रस्तावित है। उन्होंने  बताया कि गंगा को स्वच्छ, निर्मल, प्रेरणादायक बनाने एवं अपने मूल रूप में लाने के उद्देश्य से जन जागरूकता के लिए गंगा यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि उक्त गंगा यात्रा प्रदेश के गंगा नदी के किनारों पर स्थित 1038 ग्राम पंचायतों, 26 जिलों एवं 21 नगर निकायों से हो कर गुजरेगी। इस दौरान पवित्र गंगा नदी के दोनों किनारों पर स्थित गांवों, कस्बों, शहरों एंव मौहल्लों में इस आयोजन में शामिल विभागों द्वारा विभिन्न गतिविधियों एवं कार्यक्रमों के माध्यम से गंगा नदी को स्वच्छ, निर्मल, अविरल और प्रदुषण मुक्त बनाने के लिए जन जागरण अभियान चला कर जागरूक किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जल मार्ग से यह यात्रा कुल 108 किमी तथा सड़क मार्ग से 1162 किमी पांच दिवसों में सम्पन्न होेगी। 
जिलाधिकारी ने यह भी बताया कि गंगा यात्रा के दौरान जिले में गंगा के दोनों तटों पर गंगा यात्रा का स्वागत करते


हुए समारोह का आयोजन किया जाएगा तथा ग्रामवासियों को गंगा की महत्ता से भी अवगत कराया जाएगा। गंगा यात्रा की अवधि के दौरान सभी शासकीय विभागों की गतिविधियां एवं कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाएगा। उन्होंने संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि गंगा में किसी भी दशा में तरल एवं ठोस अपशिष्ट गिरने न पाए, इसके लिए एसटीपी की व्यव्स्था करना सुनिश्चित करें। उन्होंने नगर विकास विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि गंगा किनारे जहां घाट नहीं हैं, वहां चबूतरों का निर्माण कराएं तथा खाली स्थानों पर ओपन जिम बनाने की व्यवस्था करें, जहां पर लोग शारीरिक व्यायाम कर सकें। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि गंगा तटीय ग्रामों में विशेष रूप से नियमित्ता के साथ स्वच्छता अभियान चलाएं तथा गंगा तालाबों को मनरेगा के माध्यम से विकसित करा कर उनका सौंदर्यकरण कराना सुनिश्चित करें।  इस अवसर पर उन्होंने गंगा यात्रा के दौरान विभागीय गतिविधियाें एवं कार्यक्रमों को अंजाम देने वाले नगर विकास विभाग, ग्राम्य विकास, पंचायत राज, खेलकूद एवं युवा कल्याण, चिकित्सा एंव स्वास्थ्य, उद्यान, कृषि, वन एवं पर्यावरण, बेसिक, माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा, पशुधन, लोक निर्माण, सूचना, पर्यटन एवं संस्कृति, सिंचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि गंगा यात्रा के सफल आयोजन में अपने दायित्वों को पूर्ण निष्ठा, गंभीरता और जिम्मेदारी के साथ निर्वहन करना सुनिश्चित करें। उन्होंने सचेत करते हुए कहा कि इस कार्य में किसी भी प्रकार की शिथिलता और लापरवाही बर्दाशत नहीं की जाएगी। 

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी केपी सिंह, अपर जिलाधिकारी प्रशासन विनोद कुमार गौड़ वित्त/राजस्व अवधेश कुमार मिश्र, अपर पुलिस अधीक्षक, उप निदेशक कृषि जेपी सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी सहित सभी संबंधित विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी, उप जिलाधिकारी एवं तहसीलदार मौजूद थे।

No comments