Latest News

डीएम ने चैपाल में सुनी समस्याएं, विकास का किया सत्यापन

अन्न प्रासन व गोद भराई कार्यक्रम संपन्न

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरी । जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय ने विकास खण्ड पहाड़ी के ग्राम पंचायत बछरन के मजरा गोसाईंपुर प्राथमिक विद्यालय प्रांगण में आयोजित चैपाल में कराए गए विकास कार्यो का सत्यापन कर ग्रामवासियों की समस्याएं सुनीं।
जिलाधिकारी ने कहा कि कैम्प के माध्यम से पात्र व्यक्ति योजनाओं का लाभ लें। प्रधान व सचिव की पूर्ण जिम्मेदारी है कि शासकीय योजनाओं का अधिक से अधिक प्रचार प्रसार कराएं। ताकि लोगों को लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को किसान सम्मान निधि नहीं मिली है वह काउंटर पर समाधान करा लें। चकबंदी लेखपाल को निर्देश दिए कि वरासत के मामलों का तत्काल निस्तारण कराएं तथा सीओ चकबंदी को निर्देश दिए कि किसान सम्मान निधि में जो छूटे हुए किसान हैं उनको लाभ दिलाया जाए। राजस्व लेखपाल से कहा कि जिला


कृषि अधिकारी से सूची लेकर छूटे किसानों को लाभ दें। उन्होंने कहा कि किसान मानधन योजना का विवरण इस पुस्तिका में क्यों नहीं रखा गया। इसमें जिम्मेदार अधिकारी तथा कर्मचारी से जवाब तलब किया जाए। खाद बीज की समस्या पर ग्रामवासियों ने बताया कि बछरन में साधन सहकारी समिति है, लेकिन यहां से खाद उपलब्ध नहीं कराई जाती। इस पर सहायक निबंधक सहकारी समितियां को निर्देश दिए कि अगले वर्ष की फसल के दौरान यह सुनिश्चित करें कि यहीं से ही खाद का वितरण कराया जाएगा। पेंशन योजनाओं पर दिव्यांगजन अधिकारी को निर्देश दिए कि जिन लोगों के वृद्धा, विधवा, दिव्यांग पेंशन नहीं मिल रही है उनके आवेदन पत्र भरवाएं और उन्हें इस योजना का लाभ दिलायें। सचिव को निर्देश दिए कि जो पात्र व्यक्ति हैं उनको आवास दें। गोर्साइंपुर की जो समस्याएं हैं उनकी खण्ड विकास अधिकारी पहाड़ी जांच कर निस्तारण कराएं तथा लमेहटा गांव में जो समस्याएं हैं उसको जिला पंचायत राज अधिकारी जांच कर निस्तारण करें। ग्राम प्रधान व सचिव को निर्देश दिए कि गलियों के निर्माण आदि कार्य जो हो रहे हैं उसे एक माह के अंदर पूर्ण करा दिया जाए। अगर एक माह के बाद कोई समस्या इस ग्राम की आई तो संबंधित लोगों के खिलाफ कार्यवाही होगी। उन्होंने डीसी मनरेगा से कहा कि इसकी जांच करें। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि एक माह पूर्व सूचना के बावजूद गांव में सभी योजनाओं के कार्य नहीं पूरे कराए गए इसमें संबंधित अधिकारियों तथा ब्लॉक, ग्राम स्तरीय अधिकारियों तथा

कर्मचारियों का जवाब तलब किया जाए। उन्होंने सचिव व प्रधान को निर्देश दिए कि जो हैण्डपंप खराब है उनको तत्काल ठीक कराएं तथा जो लोगों द्वारा घर के अंदर कर लिया गया है उस पर तहसीलदार राजापुर को निर्देश दिए कि पहाड़ी थानाध्यक्ष के साथ जाकर तत्काल कार्यवाही कराएं। उन्होंने सचिव व प्रधान को निर्देश दिए कि गौशाला संचालन में किसी भी प्रकार की अव्यवस्था नहीं होना चाहिए। गौशाला में गौवंशोे के लिए चारा पानी टीनसेड आदि सभी व्यवस्थाएं रहे। कोई भी पशु बीमार न रहे और न ही किसी भी प्रकार की अव्यवस्था हो। मुख्य विकास अधिकारी से कहा कि अगली बार गांव के चैपाल के पहले सभी जिला स्तरीय अधिकारी अपनी-अपनी योजनाओं की समीक्षा पूर्व में ही कर ले जो समस्याएं हो उनका तत्काल निस्तारण करे। उन्होंने सचिव तथा ग्राम प्रधान को निर्देश दिए कि अपने कार्यों में सुधार लाएं। अगर 15 दिन के अंदर सभी कार्य पूर्ण नहीं हुए तो कार्यवाही होगी। जिलाधिकारी ने आंगनबाड़ी कार्यकत्री व सुपरवाइजर से आंगनवाड़ी केंद्र संचालन आदि की जानकारी की तथा ग्रामवासियों से कहा कि कोई भी बच्चा कुपोषित से ग्रसित नहीं होना चाहिए। इसमें अपने बच्चों को स्वस्थ रखने के लिए हरी सब्जियां आदि खिलाए। जिलाधिकारी ने मनरेगा के कार्य, खाद्यान्न वितरण, राज्य वित्त, चैदहवां वित्त, स्वेटर, जूता, मौजा, कपड़ा, किताब, मिड डे मील, स्वच्छ शौचालय, प्रधानमंत्री आवास, पठन-पाठन आदि की विस्तृत समीक्षा की। उन्होंने ग्रामवासियों से कहा कि सभी लोग अपने बच्चों को अच्छी तरह से पढ़ाएं। तत्पश्चात् ग्राम में चैपाल के दौरान बाल विकास परियोजना पहाड़ी द्वारा अन्नप्राशन तथा गोद भराई का कार्यक्रम किया। जिसमें जिलाधिकारी तथा मुख्य विकास अधिकारी ने दो बच्चों को अन्नप्राशन तथा दो गर्भवती महिलाओं की गोद भराई की गई। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डा महेंद्र कुमार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा विनोद कुमार, उप जिलाधिकारी राजापुर राहुल कश्यप, जिला विकास अधिकारी आरके त्रिपाठी, परियोजना निदेशक अनय कुमार मिश्रा, जिला पंचायत राज अधिकारी राजबहादुर, डीसीएनआरएम राम उदरेज यादव, जिला कार्यक्रम अधिकारी मनोज कुमार, खण्ड विकास अधिकारी पहाड़ी विपिन कुमार, सचिव दिनेश सिंह, ग्राम प्रधान त्रिलोक सिंह सहित संबंधित अधिकारी व ग्रामीण मौजूद रहे।

No comments