Latest News

निष्ठा प्रशिक्षण के पांचवे चरण का समापन

बबेरू, कृपाशंकर दुबे । शिक्षको का पांच दिवसीय पांचवें चरण का निष्ठा प्रशिक्षण समापन हुआ। मुख्य अतिथि ने कहा कि अध्यापक प्रशिक्षण के बाद पूरे मन कर्म से शिक्षण कार्य लगन के साथ करे। जिससे बच्चों का भविष्य उज्ज्वल हो सके। 
संबोधित करते विधायक चंद्रपाल कुशवाहा
मुनीम सिंह भारतीय एजुकेशन सेंटर में विकास खण्ड बबेरू के परिषदीय विद्यालयों के शिक्षको का पांच दिवसीय निष्ठा प्रशिक्षण कार्यक्रम पांचवें चरण के समापन मुख्य अतिथि क्षेत्रीय विधायक चन्द्रपाल कुशवाहा ने कहा कि अब तो ट्रेनिंग होती है पहले के समय में होती ही नही थी। छात्र ही आगे अध्यापक बनता है। सदगुण हमेश उदाहरण देने योग्य होता है। एकलव्य की कहानी के माध्यम से बताया कि गुरू ही सर्वश्रेष्ठ है। शिक्षक प्रशिक्षण के बाद पूरे मन कर्म के साथ शिक्षण कार्य में लगने का जोर दिया। जिससे बच्चों का भविष्य उज्ज्वल हो सके। प्रशिक्षक आकिब जाबेद एसआरपी, शीतल प्रसाद, नवल किशोर, प्रमोद कुमार वर्मा, पवन कुमार केआरपी ने शिक्षको को प्रशिक्षित किया। खण्ड शिक्षाधिकारी कैलाश सिंह ने कहा कि शिक्षण में नवीन तकनीको का उपयोग कर रूचि पूर्ण शिक्षण कार्य संपादित करे। इसके बाद खण्ड शिक्षाधिकारी ने मुख्य अतिथि चन्द्रपाल कुशवाहा विधायक को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस दौरान कुलदीप सिंह प्रबन्धक, राकेश शिवहरे, सुरेश द्विवेदी आदि मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन शिवप्रकाश सिंह एवं अतिथियों का बीआरसी प्रभारी राकेश शिवहरे ने आभार जताया है।

शिक्षामित्रों ने सौंपा ज्ञापन

बबेरू। शिक्षामित्र ब्लाक बबेरू के राजीव कुमार नामदेव ब्लाक अध्यक्ष, बद्रीप्रसाद प्रजापति महामंत्री, राजेश कुमार कोषाध्यक्ष की अगुवाई में विधायक चन्द्रपाल कुशवाहा को मुख्यमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपकर बताया कि 1 लाख 72 हजार शिक्षामित्र प्रदेश में प्राथमिक विद्यालयों में सेवारत है। सरकार के द्वारा चुनाव पूर्व
मौजूद लोग
अपने घोषणा पत्र के द्वारा शिक्षामित्रों की समस्याओं के निस्तारण का आश्वासन तीन माह के अंदर करने को कहा गया था। 25 जुलाई 2017 को माननीय उच्चतम न्यायालय द्वार निरस्त होने के उपरान्त प्रदेश में आज तक 2 हजार शिक्षामित्र काल के गाल में समा गए है। शिक्ष़्ाामित्रों की समास्याओं को निस्तरण कराने के लिए सदन में उठाने की मांग किया है। 

No comments