Latest News

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर निकली अमर शहीद नमन यात्रा

भारत माता की झांकी रही विशेष आकर्षण का केन्द्र 

फतेहपुर, शमशाद खान । गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर सरस्वती बाल मंदिर इण्टर कालेज रघुवंशपुरम की ओर से आम जनमानस में राष्ट्रीय भावनाओं का संचार करने के उद्देश्य से भारत माता के भव्य रथ व स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की मनमोहक झांकियांें के साथ अमर शहीद नमन यात्रा का आयोजन किया गया। यात्रा शहर के विभिन्न मार्गों पर घूमी। जगह-जगह लोगों ने फूलों का बारिश कर लोगों ने यात्रा का स्वागत भी किया। 
अमर शहीद नमन यात्रा में सबसे आगे घुड़सवार महिला सैनिक और उनके पीछे शुभ का प्रतीक कलश लिये बालिकाएं विशेष आकर्षण का केन्द्र रहीं। तिरंगी वेश से सुसज्जित बालिकाएं भारत माता का गौरव गाथा का बखान करते चल रही थी। परियों का स्वरूप धारण किये बालिकाएं भारत माता की आरती उतारने को उत्सुक दिखी। वीरांगना लक्ष्मीबाई और अस्त्र-शस्त्रों से सुसज्जित उनका सैन्य दल स्वतंत्रता संग्राम की गारव गाथा का
अमर शहीद नमन यात्रा का दृश्य।  
बखान करते दिखा। जल, थल व वायु सेना की सुसज्जित टुकड़ी भारतीय तोप के साथ सैन्य शक्ति का प्रदर्शन करती दिखी। आर्मी टुकड़ी के पीछे आजादी के दीवानों (भगत सिंह, राजगुरू, सुखदेव, चन्द्रशेखर) की झांकी हर किसी को रोमांचित कर रही थी। सर्वधर्म संभाव की झलक लिये गांधी का दल आजाद हिन्द फौज के नायक सुभाष चन्द्र बोस की झांकी राष्ट्रीय भावनाओं को चर्मोत्कर्ष तक पहंुचाते दिखी। स्वाभिमान का प्रतीक महाराणा प्रताप और उनकी टुकड़ी हर किसी को स्वाभिमान के साथ जीने की प्रेरणा देने में सफल रही। यात्रा में शामिल हजारों भैया-बहन कदम से कदम मिलाकर चलते हुए अनुशासन को परिभाषित करते चल रहे थे। सभी बच्चे प्रेरणा प्रेरक गीत ब्रिटिश की शेखी शान-सब धूल में मिली है या रही कल देश में 26 जनवरी, रोशनी के लिए जग में छा जायेंगे-सर कटा देंगे प्यारे वतन के लिए, इस पर हमको गर्व बहुत-माता इसे पुकारेंगे आदि गीतों के माध्यम से जनमानस को राष्ट्रीयता से अभिसिंचित करते हुए देश पर मिटने के लिए प्रेरित कर रहे थे। अमर शहीद नमन यात्रा का नेतृत्व विद्यालय के प्रबन्धक राकेश त्रिवेदी जबकि प्रधानाचार्य खागा राजकपूर, प्रधानाचार्य कलक्टरगंज धीरेन्द्र, प्रधानाचार्य गंगाराम लक्ष्मीशंकर ने विभिन्न प्रखाण्डों का नेतृत्व किया। नमन यात्रा जयरामनगर चैराहे से निकलकर जोनिहां चैराहा, ओवर ब्रिज होते हुए, शादीपुर गैस गोदाम से पटेलनगर चैराहा, आईटीआई रोड, कलक्टरगंज, हरिहरगंज, ओवर ब्रिज होते हुए राधानगर से पुनः जयरामनगर पहुंचकर समाप्त हुयी।

No comments