Latest News

खनन की रायल्टी जमा न करने पर 18 करोड़ की आरसी जारी

डीएम की कार्रवाई से पट्टा संचालकों में हड़कम्प 

फतेहपुर, शमशाद खान । जिले में मौरंग खदानों के संचालकों द्वारा जहां दिन-रात घाट पर पोकलैण्ड व जेसीबी मशीनें लगाकर खनन किया जा रहा है वहीं इसकी रायल्टी का पैसा जमा न करने पर जिलाधिकारी संजीव सिंह ने पट्टा संचालकों पर बड़ी कार्रवाई की है। चार पट्टा धारकों के पट्टे निरस्त करते हुए 18 करोड़ की आरसी जारी कर शीघ्र ही रायल्टी का पैसा जमा करने के निर्देश दिये है। डीएम की इस बड़ी कार्रवाई से पट्टा संचालकों में हड़कम्प मचा हुआ है। 
मौरंग घाट की फाइल फोटो।
बताते चलें कि जिले में कई मौरंग घाट संचालित होते हैं। जिनके खण्डों का पट्टा अलग-अलग लोगों को किया गया है। अढ़ावल, कोर्रा व ओती खण्ड संचालकों द्वारा काफी समय से रायल्टी का पैसा न जमा करके शासन को राजस्व का चूना लगाया जा रहा था। खनन अधिकारी द्वारा कई बार पट्टा संचालकों से रायल्टी का पैसा जमा करने के निर्देश दिये गये थे। इसके बावजूद पट्टा संचालक रायल्टी का पैसा जमा न करके अपनी जेबे भरने में लगे हुए थे। इस पर जिलाधिकारी संजीव सिंह ने शुक्रवार को अढ़ावल खण्ड-11, कोर्रा घाट के खण्ड-3 व 4 तथा ओती के खण्ड-3 का पट्टा निरस्त करते हुए चारों पट्टा धारकों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए 18 करोड़ की आरसी जारी की है। जिलाधिकारी की इस कार्रवाई से पट्टा संचालकों के बीच हड़कम्प मचा हुआ है। जिले में अभी भी कई ऐसे प्रखण्ड है जहां से रायल्टी जमा नहीं की जा रही है। अनुमान लगाया जा रहा है कि जिलाधिकारी द्वारा अभी और कार्रवाई की जायेगी। इस मामले पर जिलाधिकारी संजीव सिंह का कहना रहा कि चार प्रखण्डों द्वारा रायल्टी का पैसा काफी समय से जमा नहीं किया जा रहा था। जिससे राजस्व को भारी नुकसान हो रहा था। जिसके चलते चार प्रखण्डों के पट्टा संचालकों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 18 करोड़ की आरसी जारी की गयी है। सभी पट्टा धारकों से शीघ्र ही रायल्टी का पैसा जमा करने के निर्देश दिये गये हैं। 

No comments