धूप खिलने से लोगों को मिली ठंड से राहत - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Saturday, December 28, 2019

धूप खिलने से लोगों को मिली ठंड से राहत

कई दिनों से घरो में कैद बच्चो ने खेलकूद कर मनाया जश्न

फतेहपुर, शमशाद खान । कई दिनों से पड़ रही भीषण ठंड से शनिवार को हल्की धूप खिलने से जनमानस को कुछ रहत महसूस हुई। ठंड के करण पिछले कई दिनों से घरो में कैद लोग बाजारो में निकलकर अपने जरूरी काम को करने के लिये निकल पड़े। सुबह से घने कोहरे की चादर ने मौसम को रोज की तरह सर्द कर रखा था। लगभग नौ बजे सूर्य के दर्शन होने से लोगो में ठंड से राहत मिलने की उम्मीद दिखाई देने लगी और देखते ही
क्रिकेट का आनन्द उठाते बच्चे एवं गर्म कपड़ों की खरीददारी करते लोग।
देखते धूप बढ़ने से लोग धूप की गर्माहट लेते हुए दिखाई दिए। बर्फीली हवाओ व तापमान गिरने से कई दिनों से जनमानस बेहाल है। दिनभर कोहरे की चादर से ढके रहने के कारण लोग घरों में छिपने को मजबूर है। स्कूलों में छुट्टी होने से छोटे बच्चों को तो राहत रही। वही घरेलू कार्यो से निलने वालो को जहाँ सर्द हवाओं व कोहरे से जूझना पड़ रहा है। ठंड से इंसानों के अलावा पशु पक्षियों के जीवन पर भी संकट मंडरा रहा है। भीषण ठंड से राहत के लिये जहाँ नगर पालिका परिषद द्वारा अलाव जलवाए गये है। वहीं राहगीरों व निराश्रितों को सर्दी से बचाने अस्थाई रेन बसरो की भी व्यवस्था की गई है। वही चैराहों पर जलने वाले अलाव दुकानदारों व मवेशियों के लिये सहारा बने हुए है। इंसानों के साथ साथ गौवंश व समेत अन्य पशु भी अलाव की आग सेंककर ठंड से राहत लेते हुए देखे गए। धूप खिलते देख लोगो ने राहत की सांस ली। महिलाओ व छोटे बच्चों ने जहाँ घरो की छतों पर धूप सेंककर अनान्द लिया। महिलाओ द्वारा कपड़े धोने व अन्य जरूरी कार्यो को भी निपटाया जाता रहा। जबकि धूप खिली देखकर महिलाओ व पुरूष जरूरी खरीददारी करने को करने के लिये बाजारो की तरफ चल पड़े। जबकि छुट्टियां होने के बाद भी ठंड की वजह से पिछले कई दिनों से घरो में कैद बच्चो ने भी बाहर निकलकर मन पसन्द खेल-खेल कर छुट्टियो को इंज्याय किया। वही शाम होते होते सूरज एक बार फिर से बदलो की ओट में चिप गया और माहौल एक बार फिर से सर्द हो गया और देखते देखते कोहरे व बर्फीली हवाओ ने लोगो को एक बार फिर से घरो में छिपने को मजबूर कर दिया। सड़को से आमजनमानस के गायब होने से सड़को पर सन्नाटा छा गया।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages