Latest News

लेखपालों ने भरी हुंकार: नहीं डरेंगे, जमकर लड़ेंगे

मांगों को लेकर 10वें दिन भी जारी रही लेखपालों की हड़ताल 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । प्रांतीय आह्वान पर उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ का धरना व कार्य बहिष्कार लगातार 10वें दिन भी जारी रहा। संघ पदाधिकारियों पर निलंबन की कार्रवाई के बाद भी हड़ताली लेखपाल और ज्यादा गुस्से में दिखे। जिले भर के लेखपालों ने सदर तहसील परिसर में धरना-प्रदर्शन किया। कहा कि अपनी मांगे पूरी कराने के बाद ही हड़ताल खत्म होगी। 

सदर तहसील में धरने पर बैठे लेखपाल 
लेखपाल संघ जिला इकाई की अगुवाई में 10वें दिन गुरुवार को जिले भर के लेखपालों ने कार्य बहिष्कार और धरना में भागीदारी की। सदर तहसील परिसर में धरना सभा के साथ प्रदर्शन किया। धरना सभा को संबोधित करते हुए प्रांतीय आडिटर मूलचंद्र पटेल ने कहा कि चाहे कितनी भी बड़ी कार्रवाई सरकार करे लेकिन उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अपनी मांगें पूरी कराकर ही अब लेखपाल दम लेंगे। लेखपालों के कार्य बहिष्कार और प्रदर्शन को 10 दिन हो चुके हैं लेकिन सरकार कोई संज्ञान नहीं ले रही है। एलान किया कि अब लेखपाल संघ भी अपनी आठ सूत्रीय मांगों के समर्थन का शासनादेश प्राप्त करके ही हड़“ताल खत्म करेगा। हर हाल में अपनी मांगें सरकार से मनवाकर रहेंगे। जिलाध्यक्ष शिवचंद्र यादव ने कहा कि जब तक शासन हमारी मांगों को नहीं मानता है। तब तक प्रांतीय नेतृत्व के निर्देश पर आंदोलन जारी रहेगा। सदर तहसील अध्यक्ष बालकृष्ण शिवहरे ने लेखपालों से पूर्ण निष्ठा, एकजुटता व अनुशासन में रहकर शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन की अपील की। साथ ही सभी आंदोलन में शत प्रतिशत उपस्थित रहने पर जोर दिया। इस मौके पर राकेश कुमार बुंदेला, छंगूराम, गौरव सिंह, गुलाब सिंह, भानु प्रताप गुप्ता, राजेंद्र सिंह पटेल, अलखराम अवस्थी, महेंद्र कुशवाहा, राजकुमार पटेल, राकेश बाबू, राजेंद्र निगम, कुमारी निशा, कुमारी प्रीति कुशवाहा, कुमारी रजनी, रमेश यादव, अशोक तिवारी, कमल कुमार पांडेय समेत तमाम लेखपाल शामिल रहे। धरना का संचालन राकेश कुमार बुंदेला ने किया।

No comments