Latest News

प्रभारी मंत्री ने विकास कार्यो की समीक्षा में अधिकारियों पर उठाये सवाल

अन्ना पशुओं का चिन्हीकरण नहीं कर पाया प्रशासन

उरई(जालौन), अजय मिश्रा । राज्य मंत्री, उच्च शिक्षा, विज्ञान एवं प्रौधोगिकी विभाग उत्तर प्रदेश सरकार श्रीमती नीलिमा कटियार का जनपद जालौन के एक दिवसीय भ्रमण कार्यक्रम के अन्तर्गत विकास कार्याे की समीक्षा बैठक विकास भवन सभागार में सम्पन्न हुई।
बैठक में सर्वप्रथम प्रभारी मंत्री द्वारा जनपद में कानून व्यवस्था की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान पुलिस अधीक्षक द्वारा कानून व्यवस्था के बारे में अवगत कराया। उन्होंने बताया कि जनपद की पुलिस पीड़ित व्यक्तियों की मदद हेतु सूचना आने के तत्काल गन्तव्य स्थान पर पहुंचकर पीड़ितजनों की मदद करती हैं। प्रभारी मंत्री द्वारा लम्बित दर्ज मामलों की जानकारी की। जिस पर बताया गया कि 273 मामले विभिन्न थानों से दर्ज है। जिस पर प्रभारी मंत्री द्वारा सबसे पुरानी लम्बित फाइलों को तत्काल निस्तारित किये जाने की कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने अवैध खनन आदि के बारे में चर्चा की। जिस पर बताया गया कि जनपद में अवैध खनन का कार्य पूर्ण नियंत्रण में है। कही से किसी प्रकार की कोई शिकायत नही हैं। पशु पालन विभाग की समीक्षा के दौरान अन्ना पशुओं के तथा गौवंश आश्रय स्थल के बारे में जानकारी की जिस पर बताया गया कि अन्ना पशुओं के चिन्हित का कार्य अभी पूर्ण नही हुआ हैं। जिस पर प्रभारी मंत्री जी द्वारा निर्देशित किया गया कि जब तक अन्ना पशुओं के चिन्हीकरण नही किया जाता है तब तक उन्हे मिलने वाली सुविधाओं के मांग किया जाना कठिन होगा।
 

उन्होने गौवंश आश्रय स्थल की जानकारी की जिस पर बताया गया कि स्थायी एवं अस्थायी 364 ग्रामीण एवं 08 नगरीय क्षेत्र में गौशालाये हैं। प्रभारी मंत्री जी द्वारा गौवंश के रख रखाव तथा दवाओं के बारे में एवं सर्दी के बचाव के पर्याप्त व्यवस्था किये जाने के निर्देश दिये। उन्होने स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा की जिस पर आयुष्मान भारत योजना की प्रगति तथा गोल्डन कार्ड बनाये जाने की जानकारी की। जिस पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा विभागीय जानकारी विस्तार से अवगत करायी। प्रभारी मंत्री द्वारा आयुष्मान मित्र के साथ बैठक कर चर्चा किये जाने के भी निर्देश दिये। प्रभारी मंत्री जी द्वारा राशन कार्डो को आधार कार्ड से लिंक किये जाने के स्थिति के बारे में भी जानकारी की जिस पर बताया गया कि ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में राशन कार्ड से राशन वितरण किये जा रहे हैं। प्रभारी मंत्री द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना, मुख्यमंत्री आवास योजना के निर्माण तथा उसके भुगतान की भी जानकारी की जिस पर संबंधित अधिकारी द्वारा बताया गया कि निर्माण कार्य चल रहा हैं तथा किस्तवार भुगतान किया जा रहा है। ग्रामीण आजीविका मिशन के संबंध में लक्ष्य के सापेक्ष प्रगति कम पाये जाने पर उसे और अधिक बढ़ाये जाने के निर्देश दिये गये। ग्रामीण पेयजल योजना के संबंध में जानकारी की गयी जिस पर संबंधित अधिकारी द्वारा बताया गया कि 34 ग्रामीण पेयजल योजना चल रही हैं। प्रभारी मंत्री जी द्वारा ग्रामीण पेयजल योजनाओं के पानी के कनेक्शन कैसे लिये जाये इसके संबंध में और प्रयास किये जाने के निर्देश दिये। दिव्यांगजन पेंशन के वितरण के संबंध में जानकारी की जिस पर बताया गया कि 845 दिव्यांगजनों को शामिल किया गया है तथा उसे मिलने वाली सुविधाओं के बारे में भी जानकारी दी। उन्हांेने सुमंगला योजना एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों के निर्माण तथा पोषाहार आदि के वितरण पर चर्चा की जिस पर संबंधित अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया। प्रभारी मंत्री द्वारा बेसिक शिक्षा विभाग की समीक्षा पर बताया गया कि किताब, ड्रेस, जूता-मोजा आदि का वितरण किया जा चुका है तथा स्वेटर का वितरण किया जा रहा हैं जिस पर प्रभारी मंत्री द्वारा कहा गया कि स्वेटर गुणवत्तापूर्ण तथा जैसे प्राप्त हो वैसे शीघ्र वितरण कर दिये जाये। उन्होंने सौभाग्य योजना के अन्तर्गत विधुतीकरण तथा विद्युत आपूर्ति के संबंध में जानकारी की जिस पर अधिशाषी अभियन्ता विधुत द्वारा बताया गया कि विधुतीकरण 31 मार्च 2020 तक पूर्ण कर लिया जायेगा विधुत आपूर्ति सुचारू रूप से चल रही है तथा विधुत बिलों के भुगतान हेतु जो भी शिकायते आती है। उसे शीघ्र निस्तारित कर दिये जाते हैं। प्रभारी मंत्री जी द्वारा सिंचाई विभाग की समीक्षा के दौरान सिंचाई कार्य एवं शिड सफाई की भी जानकारी की जिस पर अधिशाषी अभियन्ता सिंचाई द्वारा बताया गया कि लक्ष्य के सापेक्ष सिंचाई का कार्य हो रहा है तथा शिड सफाई का कार्य चल रहा हैं। जिस पर प्रभारी मंत्री जी द्वारा निर्देशित किया गया कि नहरों की शिड सफाई का कार्य जब भी प्रारम्भ हो तो उसकी पूर्व सूचना जनप्रतिनिधियों को भी दी जाये तथा उसकी समय सीमा भी निर्धारित की जाये। प्रभारी मंत्री जी द्वारा फसल बीमा योजना के कार्य की प्रगति की जानकारी की जिस पर जिला कृषि अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया। प्रभारी मंत्री द्वारा यह भी बताया गया कि आपदा ग्रस्त परिवारों के मदद किये जाने हेतु स्वयं सेवी संस्थाओं को इस कार्य में आगे आने की बात की जिससे इन्हे अधिक से अधिक राहत मिल सके। प्रभारी मंत्री जी द्वारा औधोगिक विकास एवं पर्यटन विकास के बारे में समीक्षा की जिस पर अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया। इस अवसर पर जिलाधिकारी डा. मन्नान अख्तर, पुलिस अधीक्षक डा. सतीश कुमार, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती सुमन निरंजन, मुख्य विकास अधिकारी प्रशान्त कुमार श्रीवास्तव, अपर जिलाधिकारी प्रमिल कुमार ंिसह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. अल्पना बरतारिया, अपर पुलिस अधीक्षक डा. अवधेश सिंह, जिला विकास अधिकारी परियोजना निदेशक डीआरडीए मिथलेश सचान सहित समस्त जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

No comments