Latest News

ठंडी हवाओं ने बढ़ाई गलन, ठिठुर उठे लोग हाड़कंपाऊ ठंड से ठहर गया जनजीवन

ठंड से बचाव के लिए अलाव ही बने सहारा, घरों में ही दुबके रहे लोग 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । अबकी बार ठंड के सीजन में बुधवार सबसे ठंडा दिन रहा। पहाड़ों पर हुई बर्फबारी और जनपद के कई स्थानों में हुई ओलावृष्टि का असर यह रहा कि गलन में एकबारगी इजाफा हो गया है। बुधवार का दिन अब तक का सबसे ठंडा दिन रहा। भोर में लोगों की नींद खुली तो आसमान को कोहरे ने ढक रखा था। दिन चढ़ने पर कोहरा तो हट गया, लेकिन आसमान पर छाई बदली ने सूर्यदेव को जमीं की ओर झांकने तक नहीं दिया। रह-रहकर चल रही ठंडी हवाओं ने लोगों को सिकुड़ने पर मजबूर कर दिया। आलम यह रहा कि बुधवार को सुबह से लेकर शाम तक दोपहिया वाहन चलाने वाले लोगों की डुगडुगी डोलती रही। शहर में चारों ओर लोग
कुहासे भरी ठंड में अलाव जलाकर ठंड से बचाव करते लोग 
अलाव जलाकर तापते नजर आए। दिन के समय सड़कों पर ज्यादा चहल-पहल नजर नहीं आई। बुधवार को तापमापी पारे की सुई 19 डिग्री तक पहुंच गई। हाड़कंपाऊ ठंड ने लोगों का दम डिगाना शुरू कर दिया है। बुधवार की भोर में लोगों की नींद खुली तो मौसम पूरी तरह से ठंडा था। लोग अपने घरों में ही दुबके रहने को मजबूर रहे। बहुत आवश्यक काम होने पर ही खुद को गर्म लिहाफ से ढककर लोग अपने घरों से बाहर निकले। जबरदस्त ठंड के कारण लोग अपने घरों के बाहर जाने की हिम्मत नहीं जुटा सके। जबरदस्त ठंड के चलते लोग अपने घर और घरों के बाहर अलाव जलाकर तापते नजर आए। लोगों के घरों में रूम हीटर भी चलते रहे। कुहासे भरी ठंड में भी स्कूल खुले हुए हैं। ऐसे में हाड़कपाऊं ठंड के दौरान बच्चे ठिठुरते हुए स्कूल जाने को मजबूर रहे। बुधवार का दिन ठंड के इस सीजन का सबसे ठंडा दिन रहा। बुधवार के दिन तापमान 19 डिग्री सेल्सियस अधिकत रेकार्ड किया गया। शहर के विभिन्न सार्वजनिक स्थानों, रेलवे स्टेशन, रोडवेज, स्वराज कालोनी, डीएम कालोनी समेत अन्य स्थानों पर कहीं लकड़ी तो कहीं कचरा जलाकर लोग आग से बदन सेंकते नजर आए। 

रूम हीटरों से कमरे को गर्म बनाए रहे लोग 

बांदा। हाड़कंपाऊं ठंड से बचने के लिए जहां लोग अलाव जलाकर आग तापते नजर आए, वहीं लोगों ने अपने-

अपने घरों में रखे रूम हीटरों को भी चालू कर दिया। रूम हीटरों के चलते कमरे को पूरी तरह से गर्म बनाए रखा। बिजली आपूर्ति भी लगातार चालू रही। इससे लोग ठंड से अपना बचाव करते नजर आए। जबकि शहर के विभिन्न इलाकों में लोगों ने अलाव जलवाए। कोई बाजार से लकड़ी खरीदकर लाया तो कोई कचरा आदि जलाकर ही अलाव जलाकर बदन सेंकता रहा। 

ठंड से बिगड़ रही लोगों की हालत 

बांदा। नरैनी कोतवाली क्षेत्र के जवाहर नगर निवासी रामकिशुन (50) पुत्र राजाराम मंगलवार को शाम बाजार से खरीददारी कर घर लौट रहा था। अचानक रास्ते में उसे ठंड ने जकड़ लिया। हालत बिगड़ने पर परिजनों ने उसे सीएचसी में भर्ती कराया। हालत गंभीर होने पर चिकित्सकों ने उसे जिला अस्पताल भेज दिया। एक अन्य घटना में तिंदवारी थाना क्षेत्र के बेंदा गांव निवासी पूजा (23) पत्नी सुलखान सिंह को बुधवार की दोपहर अचानक ठंड लग गई। हालत बिगड़ने पर घर वालों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। देहात कोतवाली क्षेत्र के गुरेह गांव निवासी आरती (8) पुत्री जयपाल मंगलवार को शाम घर के बाहर खेल रही थी। तभी वह अकड़ गई। परिजनों ने घर पर ही प्राथमिक उपचार किया। हालत में सुधार न होने पर उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। इसी तरह शहर के छावनी मोहल्ला निवासी हलीम (65) को मंगलवार की रात ठंड ने जकड़ लिया। हालत बिगड़ने पर घर वालों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। इधर, चिकित्सकों के मुताबिक इस मौसम में दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ रहा है। इसलिए बुजुर्गों को सावधान रहने की जरूरत है। खासकर दिल और उच्च रक्तचाप के मरीजों को। उच्च रक्तचाप, मोटापा, कोलेस्ट्राल के स्तर, मधुमेह या अत्यधिक धूम्रपान सर्दियों में दिल का दौरा पड़ने का कारण है। इसलिए रक्त में ग्लूकोज और कोलेस्ट्राल के स्तर का ध्यान रखा जाना चाहिए। शराब के अनियंत्रित सेवन और जंक फूड से बचना चाहिए। दिल के मरीज महीने में दो से तीन बार ब्लडप्रेशर की जांच कराते रहें। 

No comments