Latest News

शीतलहर से पारा लुढ़का, कपकपाया जनमानस

ट्रेनों की लेटलतीफी से यात्रियों को उठानी पड़ रही दिक्कतें 

फतेहपुर, शमशाद खान । दिसम्बर का आधा माह बीत चुका है। अब ठण्ड धीरे-धीरे अपने शबाब पर पहुंच रही है। पहाड़ी इलाको में बर्फबारी होने से शीतलहरी का प्रकोप शुरू हो गया है। जिसमें एकाएक मौसम में परिवर्तन आ गया है। मंगलवार को दिन भर लोग शीतलहरी से जूझते नजर आये। स्वेटर, मफलर, टोपा सहित अन्य वस्त्रों से अपने आपको ढके हुए लोग सड़कों पर दिखे। ट्रेनों की लेटलतीफी के कारण यात्रियों को स्टेशन पर खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। 
ठण्ड से बचने के लिये अलाव तापते लोग। 
मौसम में अचानक हुए परिवर्तन से सुबह एव रात्रि के तापमान में गिरावट होने का दौर जारी है। मौसम के मिजाज में आये इस बदलाव से ठण्ड व गलन में बेतहाशा बढ़ोत्तरी हो गयी है। जिसने आम जनमानस को बेहाल कर रख दिया है। मौसम बदलने के साथ लोगो को बाहर निकलने के लिये स्वेटर और जैकेट का सहारा लेना पड़ रहा है। जबकि रात्रि में शीतलहर के कारण हड़कम्पाऊ ठण्ड होने रात्रि में आने जाने में अनेक समस्याओ का सामना करना पड़ रहा है। ठण्ड से बचने के लिये रेलवे स्टेशन और बस स्टाप समेत अन्य खुली जगहों पर रहने वाले गरीबो के पास पर्याप्त साधन न होने से वह अलाव का सहारा लेने को मजबूर है। सर्दी के बढ़ते प्रकोप का खामियाजा दूर दराज की यात्रा करने वाले व फुटपाथ पर रहने वाले निराश्रितों को सबसे अधिक भुगतना पड़ रहा है। लगातार पारे के गिरने से और गलन बढ़ने से सर्दी अपने चरम सीमा पर है। वही रात्रि के समय गिरने वाली ओस भी लोगो को जमकर नुकसान पहुंचा रही है। मौसम विभाग के वैज्ञानिकों द्वारा सर्दी के प्रकोप को देखते हुए लोगो की रात्रि के समय केवल जरूरत पर ही निकलने की सलाह दी गयी है। जबकि फुटपाथ पर जीवन जीने वाले गरीबो को अपने जीवन यापन करने में ढेरों कठिनायो का सामना करना पड़ रहा है।

No comments