Latest News

देश में हो रहे लगातार महिलाओं की हत्या और बलात्कार से द्रवित नगर पालिका झींझक के युवाओं ने कैंडल मार्च निकालकर श्रद्धांजलि दी।

ऐश्वर्य गुप्ता (कानपूर देहात)

समाजसेवी प्रबुद्ध श्रमशील ने कहा पूरे देश में हो रही घटनाओं से आम आदमी को तो अक्सर हत्या और बलात्कार के लिए कैंडल मार्च निकालना पड़ रहा है।

लेकिन सबसे ज्यादा सोचने वाली बात यह है कि संसद में 78 महिला सांसद हैं जिनमें स्मृति ईरानी, स्वाति सिंह, ठाकुर प्रज्ञा सिंह जैसी तेजतर्रार नेता भी हैं जो महिलाओं पर हो रहे अत्याचार पर भी अब तक अपना मुंह बंद किए हुए हैं कैंडल मार्च की जरिए हम ऐसे सिस्टम का विरोध कर रहे हैं जिसमें बलात्कारियों को धर्म के हिसाब से समर्थन दिया जा रहा है कि बलात्कार और हत्या करने वाला हिंदू धर्म से है या मुस्लिम धर्म से जबकि चिन्मयानंद ,राम पाल, आसाराम जैसे कई ढोंगियों के ऊपर आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई बल्कि उनको जेल में रखकर उनकी सेवा की जा रही है। ऐसे मामलों में बलात्कारियों और हत्यारों की सुनवाई का कोई मौका नहीं दिया जाना चाहिए और बलात्कारियों का धर्म के हिसाब से समर्थन करने वालों पर भी कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि देश में नफरत की भावना को पैदा करने वालों को भी सजा मिले।  नगर के सभी लोग इस कायक्रम में मौजूद रहे जिसमे प्रमुख रूप से रामदर्शनी कुशवाहा, रूबी यादव, अनिल ओमर, ऐश्वर्य गुप्ता, भरत शर्मा, सुशील गुप्ता, सुंदरम कठेरिया, इब्राहिम खान,  गोलू कठेरिया, विमल यादव, अंकित यादव, रोहित यादव, पंकज पाल, मोनू पाल आदि युवा समाजसेवियों ने नेतृत्व किया।

No comments