Latest News

देर से हुए सूर्य के दर्शन, कोहरा व गलन से दिनचर्या प्रभावित

फतेहपुर, शमशाद खान । समूचे जनपद में ठंडक ने सभी लोगो को हिला कर रख दिया है। भीषण कोहरे व ठंड के साथ-साथ गलन ने लोगों की दिनचर्या प्रभावित कर रही है। गर्म कपड़ो में कैद होकर लोग घरों से जरूरी काम होने पर ही निकल रहे है। ठंडक का असर बाजारों में भी देखने को मिल रहा है। बताते चलें कि दो दिनों तक सुबह से ही धूप निकल रही थी जिससे लोगो ने सर्दी से थोड़ी राहत महसूस की थी, किन्तु एकाएक पुनः मौसम का मिजाज बिगड़ गया और सुबहर पहर भीषण कोहरे के साथ-साथ बढ़ी गलन से एक बार फिर लोगों को परेशान कर दिया। मौसम के एकाएक बिगड़े मिजाज से जहाॅ सबसे अधिक दिक्कत बुजुर्गो को हुई। वहीं पशु-पक्षी भी ठंड से तड़प रहे है। 
घने कोहरे के बीच लाइट जलाकर आती बाइक।
मालूम हो कि भीषण ठंड व कोहरे के चलते बस स्टाप, रेलवे स्टेशनों पर सफर करने वाले मुसाफिरो को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ठण्ड के आगे सभी यात्री बेबस दिखाई दे रहे हैं। ट्रेनों की लेटलतीफी के चलते गंतव्य तक पहुॅचने के लिए लोगों को भारी मशक्कत करनी पड़ रही है। रविवार को काफी देर से सूरज के दर्शन हुए और ठंड से जनपदवासियों को राहत दिलाई। सार्वजनिक स्थलों रेलवे स्टेशन, बस स्टैण्ड सहित अन्य जगहों पर लोग ठिठुरते दिखे। शहर के अतिव्यस्ततम् चैक बाजार एवं लाला बाजार, लाठी मुहाल में भी सन्नाटा पसरा रहा। लगभग एक पखवारे से मौसम के बिगड़े मिजाज से मेहनत-मजदूरी का काम करने वाले मजदूरों के सामने पेट पालने के लाले पड़े है। सुबह घने कोहरे के बावजूद दोपहर को धूप तो खिली, लेकिन शीतलहर के चलते ठंडक सब पर भारी रही। कोहरा व सर्द हवाओं के बीच ठंड से लोग कंपकपा रहे है। धूप भी अपना कोई भी करिश्मा नहीं दिखा पा रही है। सरकारी विभागों में भी कार्यरत कर्मचारी हीटर के आगे अपने को दिन भर सेंकते रहते है। बाजारों की रौनक पूरी तरह से गायब है। सुबह देर से मार्केट खुलती है और शाम ढलते ही बाजार की रौनक खत्म हो जाती है। रात्रि को भीषण कोहरे के चलते राष्ट्रीय राजमार्ग की रफ्तार में कमी आयी है। ट्रक एवं बस चालक अपने गन्तव्य तक पहुंचने के लिये फाग लाइट के इस्तेमाल के साथ स्पीड में कमी बरत रहे है जिससे कि वह सुरक्षित अपने स्थान तक पहुंच सकें। 

No comments