Latest News

सत्य ही प्रधान है: अवधूत

बबेरू, कृपाशंकर दुबे । मौनी धाम में आयोजित पौराणिक मेला महोत्सव के दूसरे दिन आस्थावान श्रद्धालुओं को संत शिरोमणि स्वामी अवधूत महाराज ने सत्य स्वरूप का उपाख्यान करते हुए कहा कि इस संसार में सत्य ही प्रधान है। सत्य की ब्रम्ह है, सत्य ही तप एवं प्रजा की सृष्टि करता है। सत्य धर्म पर चलने वाला पुरूष स्वर्ग की प्राप्ति करता है तथा असत्य मार्ग पर चलने वाला मनुष्य नरकगामी होता है। जो सत्य है वही धर्म है। वही ज्ञान
प्रकाश वही सुख का भागीदार है। श्रेष्ठ गुणों को अपनाना ही धर्म कहते है। जो असत्य है, अधर्मी है, कुमार्गी है उसका जीवन मानसिक शारीरिक बेदनाओं से भरा पडा है। इस मार्ग पर चलने वाले व्यक्ति को हर जगह अपमानित एवं निन्दित होना पडता है। यह जानकर विद्वान पुरूष असत्य के मार्ग पर नही चलते बल्कि श्रीराम भगवान एवं वीर हनुमान जी का ध्यान करते और अपने दैनिक कार्य में लगे रहते ऐसे सतपुरूष इस लोक में सुख का प्राप्त करते हुए परलोक में भी पूज्य होते है। स्वामी अवधूत महाराज ने सभी श्रद्वालुओं को सतमार्ग पर चलने के लिए प्रेरित किया है।

No comments