व्यापारियों ने लिखा पोस्टकार्ड, बताया अपना दर्द - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, December 18, 2019

व्यापारियों ने लिखा पोस्टकार्ड, बताया अपना दर्द

प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को भेजा, ज्ञापन सौंपा 
बांदा उद्योग व्यापार मंडल के पदाधिकारियों ने बताया अपना दर्द 
बिजली की बढ़ी दरों को वापस लेने और टीडीएस खत्म करने की मांग 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । उद्योग व्यापार मंडल ने बुधवार को प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा। व्यापारियों ने जीएसटी को विभिन्न मदों में समाप्त किया जाए। उन्होंने कहा कि किराए पर जीएसटी उचित नहीं है। क्योंकि सरकार मकानों से जलकर, भवन कर, सीवर कर, किराए पर आयकर आदि अनेक प्रकार के कर वसूल करती है। भवन निर्माण में प्रयुक्त भवन सामग्री पर भी जीएसटी लिया जा रहा है। ऐसी हालत में अत्यधिक कराधान न्याया संगत नहीं है। इस कानून से भवन निर्माण कार्य भी हतोत्साहित होगा। 
व्यापारियों ने ज्ञापन में यह भी कहा है कि एक करोड़ से अधिक की निकासी पर टीडीएस समाप्त किया जाए। सरकार ने बैंकों से वार्षिक एक करोड़ रुपया से अधिक की निकासी पर दो प्रतिशत टीडीएस लगा दिया है। एक
प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को पोस्टकार्ड लिखते व्यापारी 
छोटज्ञ व मध्यम व्यापारी भी एक वर्ष में एक करोड़ रुपए के अधिक का लेन-देन कर लेता है। इसलिए हमारी मांग है कि दो प्रतिशत के टीडीएस काटने का नियम खत्म किया जाना चाहिए। इसके साथ ही सबसे बड़ी बात व्यापारियों ने कहा तकि आनलाइन बिक्री पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगाया जाए। व्यापारियों ने कहा कि वर्तमान समय में बाजार में अत्यधिक प्रतिस्पर्धा है और मंदी के कारण बिक्री भी बहुत कमजोर है। ऐसी हालत में आनलाइन बिक्री से छोटा व मध्यम व्यापारी अत्यधिक प्रभावित हो रहा है। कई व्यापारी अपना व्यापार बंद कर चुके हैं और कई बंदी की कगार पर पहुंच गए हैं। इसलिए आनलाइन बिक्री पर रोक लगाई जाए। 
ज्ञापन में मुख्यमंत्री से व्यापारियों ने मांग की है कि बिजली की बढ़ी दरों को वापस लिया जाए। कहा कि 12 प्रतिशत अधिक बिजली दरों को बढ़ाना व्यापारी व किसान वर्ग के लिए अत्यधिक पीड़ादायक है। सरकार को लाइन लास व बिजली चोरी रोककर इसकी भरपाई करना चाहिए। जिन भ्रष्ट अधिकारियों की वजह से बिजली विभाग में यह हानि हो रही है, उनको दंडित करना चाहिए। इसकी सजा जनता को नहीं देनी चाहिए। बिजली विभाग द्वारा सिक्योरिटी मनी में अत्यधिक वृद्धि वापस लें। क्योंकि इससे अनेक उ़ोगों के बंद होने का खतरा एवं जनसामान्य के लिए अत्यधिक आर्थिक बोझ है और जितनी बिजली उतना मूल्य के आधार पर बिजली मूल्य लिया जाए। बिजली पर दिल्ली सरकार ने छूट दे रखी है। उत्तर प्रदेश में छूट न सही लेकिन दर न बढ़े ंतो आम लोगों एवं व्यापारी वर्ग को बहुत राहत मिलेगी। इस मौके पर व्यापार मंडल पदाधिकारी वरिष्ठ उपाध्यक्ष अनिल उत्तम, कोषाध्यक्ष गोरेलाल गुप्ता, उपाध्यक्ष महेश गुप्ता, दीपक गुप्ता, दिलीप जैन, अमित सेठ, मंत्री अंकुर गुप्ता, सौरभ लक्षकार आदि मौजूद रहे। 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages