Latest News

नहीं पहुंची एम्बुलेंस, सड़क पर हुआ प्रसव

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जननी सुरक्षा योेजना का जनपद में खुलेआम विभागीय अधिकारी माखौल उड़ा रहे हैं। प्रसूताओं को कहीं उपचार नहीं मिलता तो कहीं एम्बुलेंस के समय पर न पहुंचने से प्रसव खुले आसमान के नीचे होता है। ऐसा ही मामला फिर भीषण ठंड व बारिश के बीच देखने को मिला। गर्भवती महिला सड़क पर शिशु को जन्म देने को मजबूर हुई।

ये मामला बहिलपुरवा थाना क्षेत्र के बिलहरी गांव का है। बताया गया कि गर्भवती सुभवती पत्नी राना निवासी प्रयागराज मायके आई थी। मंगलवार की सुबह सात बजे प्रसव पीड़ा होने पर मां कुंती देवी ने 102 एम्बुलेंस और आशा बहू सुनीता को जानकारी दी। दोपहर 12 बजे तक एम्बुलेंस नहीं पहुंची। इस दौरान प्रसव वेदना बढ़ता देख परिजन भीषण ठंड व बूंदाबांदी के बीच घर से पैदल अस्पताल जाने को निकले तो कुछ दूर जाते ही खुले आसमान के नीचे सड़क पर प्रसव बाद शिशु को जन्म दिया। जच्चा-बच्चा को लेकर पुनः अस्पताल पहुंचने का प्रयास करते समय रास्ते में एम्बुलेंस मिली। जिसे रोक कर जिला अस्पताल आए। प्रसूता की मां कुंती ने बताया कि सुबह से एम्बुलेंस का इंतजार करने के बावजूद मौके पर नहीं पहुंची। जिससे उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पडा। आशा बहू भी नहीं आई। जिला अस्पताल में जच्चा-बच्चा को भर्ती कर चिकित्सा दी गई है। गौरतलब हो कि आए दिन ऐसे मामले प्रकाश में आने के बावजूद कोई सुधार नहीं हो रहा। ऐसे में शासन-प्रशासन की छवि धूमिल होने के साथ ही आमजन को योजनाओं का लाभ नहीं मिलता है।


No comments