Latest News

अन्नदाता की समस्याओं को लेकर कांग्रेस का प्रदर्शन

राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा 
गन्ना का उचित समर्थन मूल्य लागू करने की मांग 
दैवी आपदाओं से परेशान किसान आत्महत्या को मजबूर 

बांदा, कृपाशंकर दुबे । बुधवार को जिला कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों ने कलेक्ट्रेट में धरना दिया और प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कांग्रेसियों ने कहा कि प्रदेश सरकार की नीतियों की बदौलत किसान आत्महत्याएं करने को मजबूर हो रहा है। किसानों को बकाया गन्ना मूल्य नहीं दिया जा रहा है। इससे किसान की हालत बद से बदतर हो गई है। 
कांग्रेस जिलाध्यक्ष राजेश दीक्षित की अगुवाई में धरना-प्रदर्शन के बाद राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपते हुए कांग्रेसियों ने कहा है कि प्रदेश का किसान पहले से ही दैवी आपदाओं से पीड़ित
कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन करते कांग्रेसी 
और दबा हुआ है। उसकी हालत बदतर है। कर्ज के बोझ से दबा किसान आत्महत्याएं करने को मजबूर है। सदमें से किसानों की मौतें हो रही हैं। गन्ना किसानों का बकाया गन्ना मूल्य नहीं दिया जा रहा है, जिससे किसान की हालत बद से बदतर हो गई है। गन्ना का उचित समर्थन मूल्य लागू करने से प्रदेश सरकार कतरा रही है, जिससे किसानों को मायूसी हाथ लग रही है। कांग्रेसियों ने मांग की है कि किसानों से की जा रही वसूलियों पर तत्काल प्रभार से रोक लगाकर राहत दी जाए। पराली जलाने पर किसानों पर कायम किए गए मुकदमे वापस लिए जाएं और पराली का निस्तारण प्रदेश सरकार स्वयं अपने स्तर से कराए। इसके लिए ठोस उपाय किए जाएं। इसके साथ ही बंिद पड़ी चीनी मिलों को चालू कराया जाए। किसानों का बकाया गन्ना मूल्य का भुगतान तत्काल किया जाए और गन्ना किसानों का गन्ने का समर्थन मूल्य 450 रुपए प्रति कुंतल निर्धारित किया जाए। इस मौके पर जिलाध्यक्ष राजेश दीक्षित के अलावा सैयद अल्तमस, इरफान खान, मोहम्मद इदरीश, आदित्य सिंह, शिरोमण भाई पूर्व विधायक, आशुतोष द्विवेदी, सद्दाम खां, किशनबाबू गुप्ता, शब्बीर खां, राजेश गुप्ता पप्पू, सीमा खान, पवन देवी, सरोज, ओमप्रकाश सिंह, संजय गुप्ता, लक्ष्मीकांत मिश्रा, लाला मसूरी, रामहित निषाद, संतोष कुमार, कालीचरण, अशरफ उल्ला रंपा, कुतैबा जमा खां आदि मौजूद रहे। 

No comments