Latest News

बंगरा की अस्थायी गौशाला में पांच गौवंशजों की मौत

जानकारी मिलने के बाद अधिकारी पहुंचे मौके पर

उरई (जालौन), अजय मिश्रा । जनपद में अस्थायी या स्थाई गौशालाओं में बदइंतजामी का खामियाजा बेजुवान गौवंशजों को अपने प्राणों की आहुति देकर भुगतना पड़ रहा है। हैरानी की बात तो यह है कि ऐसी गौशालाओं में अब तक न तो बीमार पशुओं के उपचार की कोई ठोस व्यवस्था करायी जा सकी और न ही उनके लिये चारा पानी का कोई इंतजाम है। ऊपर से भीषण सर्दी के चलते जो भी इंतजाम थे वह भी नाकाफी नजर आ रहे हैं। इसी अव्यवस्थाआंे के बीच ग्राम बंगरा में बनायी गयी अस्थायी गौशाला में बीती रात पांच गौवंशजों की मौत हो गयी। घटना की जानकारी मिलने के बाद जिम्मेदार अधिकारी गौशाला में पहुंचे और पशुओं को सुरक्षित रखने के लिये अलाव जलाये जाने के निर्देश दिये।

अस्थायी गौशाला बंगरा का निरीक्षण करते अधिकारी।
बंगरा की अस्थायी गौशाला में पांच गौवंशजांे की मौत के बाद जब अधिकारियों के वहां पहुंचने की जानकारी मीडिया टीम को मिली तो वह भी मौके पर जा पहुंची जहां मीडिया टीम को प्लास्टिक की पन्नी के नीचे अनेकों गौवंशज दिखे जिसमें कई बीमार भी नजर आये। इसके बाद अधिकारियों ने मृत गौवंशजों का निरीक्षण कर उन्हें दफनाये जाने के लिये ग्राम प्रधान सीनू प्रतिनिधि को निर्देश दिये। एसडीएम माधौगढ़ शालिकराम ने प्रधान प्रतिनिधि को गायों को झूल ओढ़ाये जाने के साथ ही चैबीस घंटे अलाव जलाये जाने के निर्देश दिये। इस पर प्रधान प्रतिनिधि ने अधिकारियों को आश्वासन दिया कि वह गौवंशजों की सुरक्षा के लिये हर इंतजाम करेंगे ताकि कोई भी गाय की मौत न हो सके। लेकिन मीडिया टीम ने प्लास्टिक की पन्नी के नीचे इस सर्द मौसम में सर्दी से बेहाल गायों को देखने के वहां की व्यवस्थायें बगैर कहे ही बहुत कुछ सोचने को विवश करती नजर आयी।


No comments