Latest News

भाजपा में मंडल से लेकर जिला कमेटियों तक के लिए घमासान शुरू

जिलों में महामंत्री बनने के लिए नेता बेताब पुराने चेहरे खुद के बचाव में तो नए आने को दबाव बना रहे हैं।...
कानपुर गौरव शुक्ला:- भाजपा में मंडल अध्यक्ष और जिलाध्यक्षों के चुनाव संपन्न हो चुके हैं। अब यहां नई कमेटियों का गठन होना है और पदाधिकारी बनाए जाने हैं। इसके लिए पार्टी में दावेदारों की संख्या बहुत ज्यादा है। खासकर महामंत्री पद के लिए तो सर्वाधिक दबाव है। इसके लिए जिला व मंडल अध्यक्षों के दरबार में तो हाजिरी लग ही रही है। लखनऊ तक से दबाव डलवाए जा रहे हैं।

केंद्र से लेकर राज्य तक की सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी में सामान्य कार्यकर्ता बनकर भी लोग खुश हैं। ऐसे में पदाधिकारी बनने की चाहत रखने वालों की कमी ही नहीं है। यही वजह है कि इस बार सक्रिय सदस्यों की संख्या में भारी इजाफा हुआ और कई आपराधिक चरित्र के लोगों ने भी सक्रिय सदस्यता ली। हालांकि पार्टी ने इन्हें जिला व मंडल अध्यक्षों के चुनाव में कोई मौका नहीं दिया। अब यह लोग भी मंडल व जिला कमेटियों में पदाधिकारी बनना चाहते हैं। इसलिए ऐसे नेता दबाव बनाने में जुटे हैं। मंडल अध्यक्ष या जिला अध्यक्षों के राजनीतिक सरपरस्तों के यहां से भी सिफारिशें लगवाई जा रही हैं। इसके अलावा मंत्रियों, सांसदों, विधायकों और पूर्व मंत्रियों तक के दरबार में हाजिरी दी जा रही है।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने अनौपचारिक तौर पर इस स्थिति को स्वीकार करते हुए बताया कि यही हाल जिला व मंडल के चुनावों में भी था। किंतु पार्टी कोई समझौता नहीं करेगी। खासकर अपराधी तत्वों को कोई मौका नहीं दिया जाएगा। मंडल व जिले की कमेटी का गठन जिलाध्यक्ष या मंडल अध्यक्ष के मुताबिक ही होगा। यह काम वे अपने वरिष्ठ व सहयोगी कार्यकर्ताओं की मदद से करेंगे।

No comments