Latest News

लेखपालों का तीन दिवसीय कार्य बहिष्कार शुरू

सदर तहसील में धरना देकर आवाज की बुलन्द 

सदर तहसील में धरना देते लेखपाल।  

फतेहपुर। आठ सूत्रीय मांगों को लेकर शासन द्वारा सहमति देने के उपरान्त शासनादेश जारी न होने पर प्रान्तीय नेतृत्व के आहवान पर लेखपालों ने तीन दिवसीय पूर्ण कार्य बहिष्कार मंगलवार से शुरू कर दिया। सदर तहसील के प्रांगण में धरना देकर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। लेखपालों ने जल्द से जल्द शासनादेश जारी किये जाने की मांग उठायी। 

उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ उप शाखा सदर के अध्यक्ष रामनरेश निषाद की अगुवई में समस्त लेखपालों ने तहसील प्रांगण में धरना दिया। पूर्ण कार्य बहिष्कार का कार्यक्रम तीन दिनों तक लगातार जारी रहेगा। धरने को सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि एसीपी विसंगति, वेतन उच्चीकरण, प्रोन्नति काडर रिव्यू, पेंशन विसंगति, भत्ते, लेखपाल का पदनाम परिवर्तन, राजस्व निरीक्षक सेवा नियमावली 2018 प्रख्यापित किये जाना व प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि मध्य प्रदेश की भांति 18 रूपये प्रति खाता इंसेन्टिव हेतु लेखपालों को दिये जाने को लेकर शासन द्वारा सहमति तो बन गयी लेकिन शासनादेश जारी नहीं किया जा रहा है। जिसको लेकर लेखपालों में खासी नाराजगी है। वक्ताआंे ने कहा कि लेखपाल अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। जब तक यह लड़ाई अन्तिम चरण तक नहीं पहंुच जाती तब तक लेखपालों का संघर्ष जारी रहेगा। लेखपालों ने धरनास्थल पर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर जहर उगला। धरने का संचालन तहसील मंत्री राजाराम ने किया। इस मौके पर कंधईलाल पाल, वीरेन्द्र सिंह, ज्ञान सिंह, सूर्यबली, भोला प्रसाद, विवेक तिवारी, केदारनाथ अवस्थी, अजय पाल मौर्य, संतोष कुमार आदि मौजूद रहे। 

No comments