गरीबी उन्मूलन में सहायक होगा सहकारिता: संजय - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Tuesday, December 24, 2019

गरीबी उन्मूलन में सहायक होगा सहकारिता: संजय

दो दिवसीय प्रादेशीय अभ्यास वर्ग का समापन

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। राष्ट्रीय स्वय सेवक संघ के अनुषांगिक संगठन सहकार भारती का दो दिवसीय प्रादेशिक अभ्यास वर्ग का समापन हुआ। राष्ट्रीय संगठन मंत्री संजय पाचपोर ने कार्यक्रम के प्रथम सत्र में स्वयं सेवकों को सहकार भारती की भूमिका एवं कार्यशैली विषय पर बताया। कहा कि भारतीय जीवन पद्धति संस्कृति एवं संस्कार में सहकारिता का समावेश है। राष्ट्र ऋषि नानाजी देशमुख की संकल्पना इस प्रांगण में झलकती है। सहकारिता आपसी सहयोग का ही स्वरूप है। संस्कार से सहकार के मूल मंत्र को लेकर समाज क्षेत्र में पूरे भारतवर्ष में आर्थिक स्वावलंबन को मजबूती प्रदान करने में सहकार भारती ने अपने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। वर्तमान में सहकार भारती अपने विभिन्न स्वाबलंबन अभियान केे तहत राष्ट्र के विकास में सहायक भूमिका का निर्वहन कर रही है। सहकारिता से जुड़कर व्यक्ति खुुद स्वाबलंबी बने। शहद उत्पादन, संयुक्त कृषि, वस्त्र निर्माण, जूट से सामान बनाना आदि अनेकों उदाहरण है जिसेे अपनाकर लोग सहकारिताा के माध्यम से आर्थिक
संबोधित करते वक्ता।
रूप से सक्षम हो रहे हैं। सहकारिता ने लोगों के आपसी सहयोग से सहकार पर्यटन अभियान शुुरू किया। जिसेे टूरिस्ट स्पोर्ट के रूप में विकसित कर स्थानीय लोगों को रोजगार देने की नई पहल की शुरुआत सहकार भारती ने सहकारिता के माध्यम से की है। सहकार भारती का मुख्य उद्देश्य जनता की आर्थिक सेवा द्वारा समाज का आर्थिक उत्थान करने वाली सहकारिता को शुद्ध करना एवं मजबूत बनाना है। दीनदयाल शोध संस्थान के राष्ट्रीय संगठन सचिव डॉ अभय महाजन  ने संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय समाज में सहकारिता की झलक शुरू से दिखाई पड़ती है। भारतीय समाज की जीवन पद्धति, संगठित समाज, संयुक्त कुटुंब परिवार से सीख सकते हैं कि समाज को आर्थिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक रूप से उन्नत सरलता से बनाया जा सकता है। आधुनिकता के साथ हमारी आवश्यकताएं बदल गई और हम स्वाबलंबन की दिशा से भटक गए। भारतरत्न राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख की संकल्पना का दीनदयाल शोध संस्थान एक मूर्त और जीवंत स्वरूप के रूप में  आज सबके समक्ष है। कार्यक्रम में प्रमुख रुप से प्रदेश अध्यक्ष रमाशंकर जयसवाल, लक्ष्मण पात्रा संगठन मंत्री, प्रेमसागर दीक्षित विभाग संयोजक चित्रकूटधाम मंडल, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य रामसागर चतुर्वेदी, जिलाध्यक्ष चित्रकूट रघुवरदयाल, निर्मलेन्द्र पाण्डेय, गणेश मिश्रा, दुर्गेश, हरिओम जायसवाल, अश्विनी अवस्थी, शुभम राय त्रिपाठी आदि मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages