Latest News

हाड़कपाऊ ठण्ड से बेहाल जनजीवन, सूर्य की लुका-छिपी जारी

कोहरे के कारण घण्टों देरी से पहुंची ट्रेनें, हाइवे में रेंगते रहे वाहन
ठण्ड से बचाव करने वाले साधनों की बिक्री धड़ल्ले से जारी

फतेहपुर, शमशाद खान । बीते साल 2019 की विदाई व नये साल 2020 के आगमन को लेकर जहां युवाओं में उत्साह दिखाई दिया वहीं साल का अन्तिम दिन भी बेहद ठण्ड के बीच गुजरा। लगातार बढ़ रही ठण्ड और कोहरे के चलते आम जिन्दगी प्रभावित होने लगी है। पिछले कई दिनों से पड रहे कोहरे ने यातयात व्यवस्था को पूरी तरह से चैपट कर दिया है। 8 से 12 घण्टे तक देरी से आ रही टेªने लोगों के लिये नाकाफी साबित हो रही हैं। ट्रेनों की लेटलतीफी मुसाफिरों के लिये बवाले जान बन गयी है। डयूटी पर जाने वाले सरकारी कर्मचारियों सहित लम्बी दूरी की यात्रा करने वालों के लिये समस्या बढ़ती जा रही है। सर्दी से बचने के लिये लोग तरह-तरह के उपाय कर रहे है। बाजार में ठण्ड से बचाव करने वाले साधनों की बिक्री धड़ल्ले से जारी है। रोडवेज बसों को भी घने कोहरे के कारण हाइवे पर रेंग-रेंग कर चलना पड़ रहा है। लगातार लुढ़क रहे पारे के चलते हाड़कपाऊ ठंड ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। सुबह का आगाज कोहरे के साथ शुरू हुआ तो यह स्थिति 09 बजे तक बनी रही। दिनभर शीतलहर चलने से लोग कंपकपाते रहे। दोपहर दो बजे निकली धूप के बीच सूर्य की लुका-छिपी जारी रही। शाम होते ही एक बार फिर से ठंड का कहर लोगों के लिये आफत बन गया। जिससे लोगों को आवागमन में भारी दिक्कतें उठानी पड़ रही है। लगातार बढ़ रही ठंड लोगों के लिये परेशानी का सबब बनती जा
ठण्ड से बचाने के लिए बच्चों को गोद में उठाये युवक।
रही है। पिछले कई दिनों से ठंड में हुए इजाफे से बचने के लिये जहां लोग उपाय कर रहे थे। वहीं भीषण कोहरा पड़ने से स्थितियां और भी दुरूह हो गयी है। तड़के और रात बारह बजे के बाद से गिर रहे कोहरे से लोगों को राम से काम पड़ रहा है। देर रात अचानक कोहरा गिरना शुरू हुआ तो कुछ ही देर में 10 फीट की दूरी पर दिखना मुश्किल हो गया। सुबह भी कोहरे ने यातायात को प्रभावित कर रखा हलांकि प्रातः 09 बजे के बाद कोहरा छटा जिससे लोगों को राहत मिली। मौसम की मार जहां लोगों को बेहाल कर रही है। वहीं कोहरे के कारण टेªनों एवं चार पहिया वाहनों के संचालन में भी भारी दिक्कते आ रही है। कोई भी टेªन समय से नहीं आ रही। प्रयागराज, संगम, रीवां, मंडुवाडीह, तूफान, चैरीचैरा, नार्थ ईस्ट, पुरूषोत्तम आदि एक्सप्रेस टेªनों की चाल पूरी तरह से बिगड़ गयी है। 12-12 घण्टे तक देरी से टेªनों का संचालन यात्रियों के लिये मुसीबत बन गया है। गंतव्य तक पहुंचने के लिये लोगों को सोचना पड़ रहा है। तमाम डेली अप-डाउन करने वाले यात्रियों ने डयूटी पर समय से पहुंचने के लिये रोडवेज बसों का सहारा लेना भी शुरू कर दिया है। नेशनल हाइवे पर भी कोहरे का कहर चार पाहिया वाहनों पर भारी पड़ रहा है। रेलवे स्टेशन एवं रोड़वेज बस स्टाप में सर्दी से ठिठुरते लोग देखे जा सकते है। सबसे अधिक दिक्कतों का सामना गरीब तबके के लोगों को उठाना पड़ रहा है। नगर पालिका प्रशासन द्वारा अलाव की जा व्यवस्था की गयी हैं वह बढ़ रही ठंड के साथ अब नाकाफी साबित हो रही है। लोंगों ने और स्थानों पर अलाव जलवाये जाने की मांग की है। ग्रामीण क्षेत्रों में बुआई के लिये किसान कोहरे के कारण परेशान दिख रहा है। दलहनी व तिहहनी फसलों पर पाले की मार के अंदेशे से किसानों के माथे पर चिन्ता की लकीरे उभरने लगी है। 

No comments