Latest News

महिला उत्पीड़न की शिकायतों के निस्तारण में लापरवाही बर्दाश्त नही- कंचन

उरई (जालौन), अजय मिश्रा ।  महिला उत्पीड़न की रोकथाम एवं पीड़ित  महिलाओं को त्वरित न्याय दिलाये जाने के उपदेश से उ0प्र0 राज्य महिला आयोग की सदस्य डाॅ0 कंचन जायसवाल की अध्यक्षता में विकास भवन सभागार में महिला उत्पीड़न की घटनाओं की समीक्षा एवं महिला जनसुनवाई आयोजित की गई। 
उन्होने पिछली जनसुनवाई में आये हुये प्रार्थना पत्रों के निस्तारण की अद्यतन जानकारी की। इसके उपरान्त उन्होने महिला हेल्पलाईन(181) के अन्तर्गत पिछले माह आये हुये शिकायती पत्रों की भी जानकारी की जिस पर बताया गया कि कुल 08 शिकायत पत्र प्राप्त हुये थे जिसका निस्तारण कर दिया गया था।  सदस्या द्वारा आज की जनसुनवाई में आये हुये पीड़ित महिलाओं की समस्याओं को बड़े गम्भीरतापूर्वक सुना उन्होने मौके पर ही
महिला उत्पीड़न के मामलों की सुनवाई करती सदस्या
संबंधित अधिकारियों को तत्काल निस्तारित करने के भी निर्देश दिये। उन्होने श्रीमती सपना की शिकायती पत्रों को बड़े ही गम्भीरतापूर्वक सुना जिसका घरेलू हिंसा तथा पति उत्पीड़न का मामला था जिसे मौके पर संबंधित पीड़ित महिला के पति को समझाया परन्तु उसके पति द्वारा कोई सन्तोषजनक उत्तर न पाने के कारण महिला थानाध्यक्ष द्वारा उसके विरूद्व कार्यवाही किये जाने की बात की। आज की महिला जनसुनवाई में कुल 11 शिकायती पत्र प्राप्त हुये जिसमें घरेलू हिंसा, पति उत्पीड़न, शहरी आवास हेतु, विकलांग उपकरण हेतु तथा अन्य मामलों से संबंधित प्रार्थना पत्र प्राप्त हुये जिसको सदस्या द्वारा शीघ्र निस्तारित किये जाने के संबंधित अधिकारी को निर्देशित किये। उन्होने घरेलू हिंसा, पति उत्पीड़न आदि मामलों के संबंध में महिला हेल्पलाईन(181) टीम को मौके पर जाकर काउंसलिंग किये जाने के निर्देश दिये। उनके द्वारा जनसुनवाई के उपरान्त यह भी कहा गया कि शासन की जो भी योजनाये महिलाओं से संबंधित हो उसका अधिक से अधिक लाभ महिलाओं को दिये जाये। इसमें किसी प्रकार की शिथिलता बर्दाश्त नही की जायेगी।
आज की महिला जनसुनवाई में क्षेत्राधिकारी सदर सन्तोष कुमार, जिला समाज कल्याण अधिकारी लालजी यादव, परियोजना अधिकारी डूडा अखिलेश चन्द्र तिवारी, दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी शिवसिंह, जिला सूचना अधिकारी के0वी0मिश्र, महिला थानाध्यक्ष ललित कुमारी उपस्थित रहे।

No comments