Latest News

अपने हक की खातिर पांचवे दिन भी लेखपालों ने दिया धरना

प्रशासन की घुड़की से डरने वाले नहीं है लेखपाल-ऐनुल हसन

फतेहपुर, शमशाद खान । उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ द्वारा 8 सूत्रीय मागांे को लेकर किये जा रहे आन्दोलन के क्रम में जनपद के लेखपालों ने सदर तहसील में पांचवे दिन भी धरना देकर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। लेखपालों ने जल्द से जल्द शासनादेश जारी किये जाने की मांग उठायी। संघ के मण्डलीय खण्ड मंत्री ऐनुल हसन ने धरने को सम्बोधित किया। 
तहसील परिसर में धरना देते लेखपाल।  
मंगलवार को उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ उप शाखा सदर के जिलाध्यक्ष कधईलाल पाल की अगुवई में समस्त लेखपालों ने तहसील प्रांगण में पांचवे दिन भी धरने पर डटे रहे। पूर्ण कार्य बहिष्कार का कार्यक्रम के तहत लगातार धरना जारी है। धरने को सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि एसीपी विसंगति, वेतन उच्चीकरण, प्रोन्नति काडर रिव्यू, पेंशन विसंगति, भत्ते, लेखपाल का पदनाम परिवर्तन, राजस्व निरीक्षक सेवा नियमावली 2018 प्रख्यापित किये जाना व प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि मध्य प्रदेश की भांति 18 रूपये प्रति खाता इंसेन्टिव हेतु लेखपालों को दिये जाने को लेकर शासन द्वारा सहमति तो बन गयी लेकिन शासनादेश जारी नहीं किया जा रहा है। जिसको लेकर लेखपालों में खासी नाराजगी है। वक्ताआंे ने कहा कि लेखपाल अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। जब तक यह लड़ाई अन्तिम चरण तक नहीं पहंुच जाती तब तक लेखपालों का संघर्ष जारी रहेगा। लेखपालों ने धरनास्थल पर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर जहर उगला। धरने में मण्डलीय खण्ड मंत्री ऐनुल हसन ने कहा कि प्रान्तीय निर्देश स लेखपालों को अवगत कराते हुए कहा कि संगठन शासन की घुड़की में आकर आन्दोलन को बीच में छोड़ने वाला नही है। धरने का संचालन तहसील जिला मंत्री बीरेन्द्र सिंह ने किया। इस मौके पर विवेक कुमार तिवारी, चिन्तारमण पाण्डेय, प्रेमचन्द्र पटेल, दिनेश सिंह, दयासागर पाण्डेय, मनोज कुमार, अजय पाल मौर्य, सुरेन्द्र श्रीवास्तव, प्रदीप सिंह, धर्मपाल सिंह, क्षत्रपाल गुप्ता, राजाराम, अनिल कुमार, संतोष यादव आदि मौजूद रहे। 

No comments