Latest News

महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय में किया गया शिविर का आयोजन

बांदा, कृपाशंकर दुबे । जिला जज राधेश्याम यादव के निर्देश पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण ने राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय में विधिक शिविर का आयोजन किया। डा. राजेंद्र प्रसाद जयंती समारेाह के मौके पर आयोजित शिविर में तमाम जानकारियां छात्राओं को दी गईं। मंगलवार को सुबह आठ बजे जिला कारागार में 70वें संविधान दिवस के अवसर पर समस्त जेल बंदियों को संविधान की प्रस्तावना की शपथ जेल बिजिटर शिव कुमार मिश्रा द्वारा दिलाई गई। शपथ में जेल प्रशासन की ओर से उप जेलर वीरेश्वर प्रताप सिंह, रवीन्द्र कुमार प्रजापति व अन्य पुलिस कर्मी उपस्थित रहे। शिविर में प्रशान्त कुमार चक्रवर्ती अध्यक्ष स्थायी लोक अदालत बांदा द्वारा भारतीय संविधान में निहित मौलिक अधिकारों के सम्बंध में विस्तार से व्याख्या करते हुये
कार्यक्रम में मौजूद छात्राएं 
मौलिक कर्तव्यों पर अत्याधिक जोर दिया तथा बताया गया कि मौलिक कर्तव्यों का पालन प्रत्येक नागरिक का अधिकार है। प्रत्येक नागरिक को अपने देश की सम्पत्ति, सार्वजनिक स्थलों की सुरक्षा की जिम्मेदारी निभानी चाहिये। इस दौरान भारतेन्दु प्रकाश गुप्ता प्रभारी सचिव द्वारा डा. राजेन्द्र प्रसाद जयंती के अवसर पर उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डाला तथा बताया कि डा. राजेन्द्र प्रसाद भारतीय संविधान सभा के अध्यक्ष भी रहे। बताया गया कि भारत का संविधान विश्व का सबसे विशालतम संविधान है। भारत के संविधान में मौलिक अधिकारों के सम्बंध में विस्तृत परिचर्चा है। मौलिक अधिकार भारतीय संविधान की आत्मा है तथा देश की प्रत्येक नागरिक को सम्मान से जीवने का अधिकार प्रदान करता है। इस दौरान डा. सबीहा रहमानी, डा. जनार्दन त्रिपाठी, शिवकुमार मिश्रा, रामप्रताप गुप्ता आदि ने अपने अपने विचार व्यक्त किये। शिविर के अन्त में सिविल जज भारतेन्द्र प्रकाश गुप्ता द्वारा संविधान की प्रस्तावना की शपथ दिलाई गई। शिविर में कुसुमचन्द्र यादव, राशि अहमद, डीईओ जेबा खान सहित पराविधिक स्वयं सेवक रमेश पाल, ओमजीत, विवेक त्रिपाठी, सैय्यद खुर्शीद, मुसाब अहमद, नदीम अहमद, अशोक त्रिपाठी आदि उपस्थित रहे।

No comments