Latest News

शिक्षकों की मांगों को लेकर डीआईओएस से मिले शिक्षक विधायक

चयन बोर्ड अधिनियम के विरोध में 21 जनवरी तक शिक्षक करेगे विरोध

फतेहपुर, शमशाद खान । शिक्षकों की मांगों को लेकर गुरूवार को उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के शिक्षक विधायक सुरेश कुमार त्रिपाठी ने जिला विद्यालय निरीक्षक महेन्द्र प्रताप सिंह से मुलाकात कर समायोजन के प्रति रोष व्यक्त किया। उधर बताया गया कि चयन बोर्ड अधिनियम के विरोध में 21 जनवरी तक शिक्षक काली पट्टी बांधकर विरोध दर्ज करायेेगे। साथ ही 21 जनवरी को सामूहिक अवकाश पर रहते हुए अधिनियम की प्रतियों को भी फाड़ा जायेगा। 
विधायक को समस्याएं बताते स्थानीय शिक्षक।  
डीआईओएस से वार्ता करते हुए शिक्षक विधायक ने कहा कि प्रदेश के अन्य जनपदों में शिक्षकों का समायोजन नहीं किया जा रहा है। इसके बावजूद समायोजन के सम्बन्ध में आपके द्वारा कार्रवाई क्यों की जा रही है। इससे शिक्षकों में भ्रम और असंतोष के अलावा रोष उत्पन्न हो रहा है। डीआईओएस ने बताया कि जनपद में कार्यरत शिक्षकों का अंयत्र किसी भी विद्यालय में तब तक समायोजन नहीं किया जायेगा जब तक शासन/विभाग से किसी प्रकार का निर्देश प्राप्त नही होता। डीआईओएस ने नौ अध्यापकों के नामिनी एवं विकल्प पत्र को प्रतिहस्ताक्षरित प्रकरण को तत्काल निस्तारित कर दिया। शिक्षक विधायक ने शिक्षकों के मद में कहा कि धारा 21 से छेड़छाड़ करके मिले हुए अधिकार को दंतविहीन बना दिया गया है। सरकार की ओर से विधान परिषद में मनमाने तरीके से संशोधन प्रस्ताव लाकर बिना चर्चा के पास करवा लिया गया। इसके खिलाफ शिक्षक दल के सदस्यों ने उसी दिन विधान परिषद में उनका कहना था कि सरकार का यह कार्य शिक्षक सेवा सुरक्षा के खिलाफ है। कहा कि प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश शर्मा ने अधिनियम के खिलाफ प्रदेश व्यापी आन्दोलन का ऐलान किया है। माध्यमिक शिक्षक संघ 21 जनवरी तक प्रत्येक कार्य दिवस में अपनी बाहों में काली पट्टी बांधकर कार्य करते हुए विरोध प्रदर्शित करेंगे। 21 जनवरी को जनपद मुख्यालय में सामूहिक अवकाश पर रहते हुए अधिनियम की प्रतियों को फाड़कर विरोध करेंगे। इस मौके पर विधायक प्रतिनिधि धनराज सिंह, महेन्द्र पाल सिंह राठौर, शिवेन्द्र सिंह, गजेन्द्र सिंह, आदित्य द्विवेदी, अर्पित शर्मा, डा0 विजयशंकर मिश्र, राकेश सिंह, धनंजय कुमार, विजय कुमार श्रीवास, सतीश द्विवेदी, दिनेश द्विवेदी, दयाराम, सत्यशंकर गुप्ता आदि मौजूद रहे। 

No comments