दंगाइयों पर सख्त रुख की जरूरत - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Tuesday, December 17, 2019

दंगाइयों पर सख्त रुख की जरूरत

 देवेश प्रताप सिंह राठौर
 (वरिष्ठ पत्रकार)

भारत में नागरिकता संशोधन बिल पास होने के बाद जिस तरह देश में वलवा मचा रखा है , बहुत ही शर्मनाक है आज देश के बहुत से राज्यों में सरकारी संपत्ति का जिस तरह नुकसान हो रहा है उसे देख कर लग रहा है हिंदुस्तान , या भारत नहीं है यह कोई अरब कंट्री है जहां पर नागरिकता संशोधन बिल पर इस तरह का विरोध होना यह दर्शाता है कि भारत मैं असलियत का पता चल रही है ।यह घर में ही बैठे हुए यह नाग जो भारत को डसते चले आ रहे हैं जिसने जाति धर्म के नाम से व्यवस्था फैला रखी है। यह वही बवाली और आतंकी है जो देश में अमन चैन नहीं रखना चाहते यह पाकिस्तानी समर्थक है क्योंकि भारत में रहने वाला व्यक्ति भारतीय है, जो कानून बना है भारत के अंदर बना है भारत के बाहरी लोग भी आ सकते हैं परंतु भारत के अंदर रहने वाले उन लोग क्यों परेशान हैं जिन्हें नागरिकता संशोधन बिल से हानि नहीं होनी है। जो लोग भारतीयता के रूप में भारतीय नहीं है भगौड़े हैं बाहरी है जो यहां आकर बस गए हैं उनके लिए थोड़ा सरकार को समझाने की जरूरत है। तथा

वह अपनी स्थित बता पाएंगे कि हम यही के बाशिंदे का कुछ अपना प्रूफ दे और कुछ बुजुर्गों के बारे में अपनी राय दे पाएंगे तो उनको भी सरकार किसी रूप में मानने को तैयार है पर जिस तरह से मैं देख रहा था कि बवाल हो रहे हैं सरकारी नुकसान करी जा रही है सरकारी बसें जलाई जा रही है सरकारी तंत्र को नष्ट किया जा रहा है। इनके ऊपर सरकार को चाहिए सख्त कानून बनाए और इनको पकड़कर इनके सारी सुभिदाए भारत सरकार इन्हें ना प्राप्त हो सके तथा इनके परिवार की सारी संपत्ति जप्त कर ली जाए जो लोग सरकारी नुकसान कर रहे हैं उन्हें उनकी संपत्ति बेचकर सरकारी कोष में पैसा जमा कराया जाए ऐसा कानून होना चाहिए। क्योंकि यह लोगों सिर्फ सब इनका कार्य सिर्फ ववाल यह किसी जाति के नहीं होते हैं। आज नागरिकता बिल पर जिस तरह से देश को सरकारी आर्थिक पहुंचा रहे हैं , उन लोगों को कभी बात नहीं करना है चाहिए सरकारों ने सख्त से पेश आए, क्योंकि जिस तरह यह हो रहा है यह दंगे का रूप दिखाई दे रहा है जिस तरह से तोड़फोड़ पूरे तंत्र को चुनौती दे रहे हैं सरकारों को चुनौती दे रहे हैं कुछ राज्यों की सरकार दंगाइयों का समर्थन कर रही है ऐसा प्रतीत हो रहा है जिन राज्यों में कांग्रेस की सरकारें हैं वहां पर दंगा अधिक मात्रा में नागरिक बिल का विरोध जबरदस्त हो रहा है जो कांग्रेस के मुखिया ही इसका विरोध करेंगे तो जनता और उनके भड़काऊ नेता तो विरोधी होंगे दिल्ली में आप पार्टी के मुख्यमंत्री केजरीवाल की पार्टी के एक नेता नहीं कई एक नेता दंगा भड़काने में जातिगत रूप देने का कार्य कर रहे है। आज पूरा देश वर्तमान सरकार से गर्व करता है क्योंकि इन 6 सालों में वर्तमान सरकार द्वारा जो निर्णय लिए गए हैं वह भारत की आजादी के बाद के ऐतिहासिक निर्णय जिसने भारत को पूरा बदलने का कार्य कर रही है जो आतंकवादियों अलगाववादियों एवं जातिगत पार्टियों के हित के लिए नुकसान दे है वह लोग आज देश को जनता को गुमराह कर रहे हैं पूरा देश शांति से चल रहा है परंतु कुछ लोग अपनी शैली के कारण देश के बदमाश अलगाववाद लोग जिनका ताल्लुक पाकिस्तान से है हमें बड़ा दुख होता है अलीगढ़ मुस्लिम विद्यालय जेएनयू दिल्ली के एवं जामिया कॉलेज के यह सब लोग तो पत्रों कर रहे हैं इन छात्रों के साथ कुछ बाहरी तत्व का भी हाथ महसूस हो रहा है क्योंकि इन लोगों इतना अधिक प्रभु गोंडा और दंगा जैसा कार्य छात्र नहीं कर सकते जब तक भारी गलत लोगों का हाथ ना हो आज भारत पूछता है कौन है यह यह जातिगत नेता जो देश को एकजुटता वे करने में बाधक बने हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages