Latest News

जिला जज ने संविधान के मूल कर्तव्यों की दिलायी शपथ

देश के प्रथम राष्ट्रपति की जयंती पर आयोजित हुई गोष्ठी

उरई (जालौन), अजय मिश्रा । भारत के प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती के उपलक्ष्य में जिला दीवानी न्यायालय उरई में मंगलवार को संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें संविधान के विभिन्न अनुच्छेद, प्रस्तावना, नागरिकों के मूल कर्तव्य एवं अधिकारों के विषय में चर्चा की गयी।

इस अवसर पर जनपद न्यायाधीश अनिल कुमार गुप्ता ने उपस्थित सभी न्यायिक अधिकारीगण, कर्मचारीगण, अधिवक्तागण और पीएलवी को संविधान की प्रस्तावना का पाठन कराया तथा संविधान में उल्लिखित मूल कर्तव्यों की शपथ दिलायी। उन्होंने बताया कि मूल कर्तव्य पहले संविधान में नहीं थे। इन्हें सन् 1976 में संविधान के 42 वें संशोधन द्वारा जोड़ा गया है। यह स्वर्ण सिंह समिति की सिफारिश पर आंतरिक आपातकाल की जरूरत एवं आवश्यकताओं को पूरा करने के लिये लाया गया था। इसके अनुसार भारत के प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य होगा कि वह इनका पालन करे। इनकी संख्या 11 है। उन्होंने इस बात पर भी बल दिया कि प्रत्येक नागरिक अधिकारों से पहले अपने कर्तव्यों के निर्वहन पर ध्यान दंे। संगोष्ठी में अपर जिला जज अमित पाल सिंह, उमेश प्रकाश, श्रीमती रीता गुप्ता, अनिल कुमार यादव, श्रीमती निशा सिंह, सुरेशचन्द्र, प्रकाश तिवारी, गुलाम मुस्तफा, विजय बहादुर, सीजेएम प्रशान्त कुमार, सिविल जज सी.डि. विवेक कुमार सिंह, सिविल जज जू.डि. अर्नवराज चक्रवर्ती, स्पेशल जेएम राजा सिंह यादव और ज्ञानप्रकाश कटियार आदि उपस्थित रहे।

No comments