ठण्ड से जनजीवन अस्त व्यस्त, पशु-पक्षियों के जीवन में गहराया संकट - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Advt.

Advt.

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, December 25, 2019

ठण्ड से जनजीवन अस्त व्यस्त, पशु-पक्षियों के जीवन में गहराया संकट

फतेहपुर, शमशाद खान । पहाड़ी इलाको में लगातार बर्फबारी जारी रहने से लोगो को ठंड से रहत मिलती नही नजर आ रही। कड़ाके की पड़ने वाली ठंड ने इंसानों के साथ पशु पक्षियों को भी झकझोर कर रखा हुआ है। शीतलहर के कारण ठंड पूरे शबाब पर है। ठंड से बचने के लिये लोगो को घरों में दुबकने पर मजबूर होना पड़ा। 
पिछले कई दिनों से सूरज की लुकाछिपी के खेल ने इंसानों के साथ पशु पक्षियों के जीवन पर ब्रेक सा लगा दिया है। बुधवार को कुछ देर के लिये सूर्य के दर्शन तो हुए लेकिन कुछ पलों में जब तक लोग ठंड से राहत पाते तब तक सूरज एक बार फिर बदलो की ओट में छिप चुका था। रोजमर्रा के कार्यो में घर से निकलने वाले लोग स्वेटर
ठण्ड में सिकुड़ते लोग। 
जैकट पहनने के बाद भी शीतलहर के कारण सर्दी की मार से जुझे हुए दिखाई दिये। स्कूलों में छुट्टी होने से बच्चो एव उनके परिजन तो राहत मिली। लेकिन आम दिनों में दिखाई देने वाली भीड़ सड़को से नदारत रही। सड़को पर दो पहिया व चार पहिया वाहनो की संख्या भी रोज की अपेक्षा कम ही रही। बर्फीली हवाओ सर्दी से बचने के लिये लोग घरों में रहकर रूम हीटर ब्लोवर व ठंड से बचने के लिये आग को सहारा बनाये रहे। ठंड के असर से जंगलों में पक्षियों के जीवन पर संकट गहरा गया है। घोसलों में रहत न मिलने पर पक्षियों के मरने का सिलसिला भी बढ़ रहा है। राहगीरों व सड़को पर जीवन गुजरने वालो का सहारा सड़को के आस पास जलने वाले अलाव की आग बन रही है। जबकि निराश्रित व राहगीर नगर पालिका परिषद द्वारा बनाये गए अस्थाई रैन बसेरो का सहारा लेते रहे। कोहरे व धुंध के कारण जहां हाइवे की रफ्तार थमी हुई नजर आयी। वाहन लगभग रेंगते हुए दिखाई दिये। जबकि कोहरे के कारण ट्रेने भी निर्धारित समय से काफी देरी से चल रही है। लोगो को आने जाने के लिये कई कई घण्टे तक अपनी ट्रेनों की प्रतीक्षा करनी पड़ रही है। वही मौसम विभाग के अनुसार लोगो को अभी आने वाले दिनों में हड़कम्पाऊ सर्दी से कोई निजात की उम्मीद नही दिखाई दे रही। पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फवारी जारी रहने से तापमान और गिरने की आशंका व्यक्त की गई।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages